न्यू मीडिया में हिन्दी भाषा, साहित्य एवं शोध को समर्पित अव्यावसायिक अकादमिक अभिक्रम

डॉ. शैलेश शुक्ला

सुप्रसिद्ध कवि, न्यू मीडिया विशेषज्ञ एवं प्रधान संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

सृजन ऑस्ट्रेलिया | SRIJAN AUSTRALIA

6 मैपलटन वे, टारनेट, विक्टोरिया, ऑस्ट्रेलिया से प्रकाशित, विशेषज्ञों द्वारा समीक्षित, बहुविषयक अंतर्राष्ट्रीय ई-पत्रिका

A Multidisciplinary Peer Reviewed International E-Journal Published from 6 Mapleton Way, Tarneit, Victoria, Australia

डॉ. शैलेश शुक्ला

सुप्रसिद्ध कवि, न्यू मीडिया विशेषज्ञ एवं
प्रधान संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

श्रीमती पूनम चतुर्वेदी शुक्ला

सुप्रसिद्ध चित्रकार, समाजसेवी एवं
मुख्य संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

अंतरराष्ट्रीय कवि सम्मेलन

विश्व हिंदी सचिवालय, मॉरीशस, न्यू मीडिया सृजन संसार ग्लोबल फाउंडेशन एवं सृजन ऑस्ट्रेलिया अंतरराष्ट्रीय ई- पत्रिका के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित अंतरराष्ट्रीय कवि सम्मेलन दिनांक:17 जनवरी 2021, समय :- सुबह

Read More »
नई कविता
nandlalmanitripathi

उत्तरायण हो चलो प्रभाकर

उत्तरायण हो चले प्रभाकरअंधेरो की लंबी रात गयीचाहूं ओर फैला उजियाराउत्साह उत्सव की गूंज युग मधुवन सा सारा।।खेतों में हरियाली झूमतीधान- गेहूँ की बाली कलियों का खिलना भौरों का गुंजन

Read More »
गीत
anoopdwivedi057

देशभक्ति काव्य लेखन प्रतियोगता हेतु-एक गीत प्रेम वेदना के नाम

 मम वेदना का एक अंश,  सम्भाल लो तो जान लूं।  संतप्त मरु दृग नीर बिन्दु,  खंगाल लो तो जान लूं।               मेैं निरा निर्धन

Read More »
अनूदित कविता
archanaroy20

पतंग सी लहराए दिल

पतंग सी लहराए दिल ऊंची जीवन की उड़ान हो,तील और गुड़ जैसा मीठा बनेंसबके होठों पर मुस्कान हो!!पावन पर्व संक्रांति की,प्रकाशित सबके जीवन को करेनई ऊर्जा, नया उल्लास,प्रेम और विश्वासहर

Read More »

मन ही मन

मन ही मन..—————————मेरे मन के ख्याल….!मौन साक्षी हैंकितने ही बारतेरे मनआगमन पर आने परमनाई है मन ही मन दीपावली कितनी बार ही कोसा हैजब कोई भंग किया है ख्यालउस पर

Read More »
नई कविता
pradeepmshinde28

मन ले चल

मन ले चल.. डॉ.प्रदीप शिंदेसुबह सुरज की किरन नींद से जगाती आंगनगांव पाठशाला शिक्षकशिक्षा मिली अनमोलसमान इतवार सोमवार मन ले चल मेरे बचपन,आज उदास है आलम                        पनघट घड़े लेकर दुल्हन

Read More »

मन ले चल

मन ले चल.. डॉ.प्रदीप शिंदेसुबह सुरज की किरन नींद से जगाती आंगनगांव पाठशाला शिक्षकशिक्षा मिली अनमोलसमान इतवार सोमवार मन ले चल मेरे बचपन,आज उदास है आलम                        पनघट घड़े लेकर दुल्हन

Read More »
नवगीत
bmltwr

मकर संक्रांति आई हैं

मकर संक्रांति आई हैं मकर संक्रांति आई हैंएक नई क्रांति लाई हैंनिकलेंगे घरों से हमतोड़ बंधनों को सबजकड़ें हैं जिसमें सर्दी सेबर्फ़ शीत की गर्दी सेहटा तन से रजाई हैंमकर

Read More »

मेरा वतन

*मेरा* *वतन* वतन है या तन है मेराप्राण न्योछावर इस पर कर जाऊं मैंसांस है या लहू है मेराभारत पर न्योछावर हो जाऊं मैं फूल है या है कोमल हृदयइस

Read More »
नई कविता
nandlalmanitripathi

लोहड़ी

लोहड़ी आई ,लोहड़ी आईसौगात खुशियो का है लायी।।तिलकुटिया रेवड़ी मिलेजले ज्वाला की तेज अलाव।सर्दी का मौसम उल्लास की गर्मी उत्साह।।लोहड़ी आई ,लोहड़ी आई।।सौगात खुशियो का है लायी।।भांगड़ा गिद्दा डोल नगाड़ो

Read More »

घर

घर डॉ. नानासाहेब जावळे        घर प्रिय नहीं होता, केवल मनुष्य को ही                       होता है, पशु-पंछियों को भी अपना घर प्यारा      हड़कंप मचने के बावजूद, दुनिया में      होती है कामना,

Read More »

प्रेम काव्य लेखन प्रतियोगिता,, बसंत उत्सव हेतु

ग़ज़ल,,,,, फूलों की खुशबुओं से महकता जिगर रहा।। जब तक किसी हसीन का कांधे पर सर रहा।।   देखा जो उसे दूर से अहसास हुआ यूं। जैसे फलक से चांद

Read More »
व्यंग्य वाटिका
jagdish.shamangoklani

बैंक का रोकड़िया

बैंक के रोकड़िए काकैसा नसीब हैंदिन भर दोनों हाथसने रहते रोकड़ मेंफिर भी रोकड़ कीपहुँच से दूर हैं मौलिक एवं स्वरचित जगदीश गोकलानी “जग ग्वालियरी” Last Updated on January 13,

Read More »

धीरे-धीरे बसंत आ रहा है

 प्रेम का रंग चढ़ रहा है धीरे-धीरे बसंत आ रहा हैकोयल कूक ने वाली हैसंंग हम सब नर-नारी हैजोर जोर से बोलने कीसब कर लिए तैयारी हैतन का मन भंग

Read More »
काव्य धारा
mds.jmd

सीढ़ी

सीढ़ी छत की दीवार से लगी सीढ़ीखड़ी दो पाँव परऊपर जाती नीचे आतीसीढ़ी चढ़नासीढ़ी उतरनाकरता निर्भरकहाँ खड़े हम। कुछ लोग सीढी के सहारेचढ़ जाते ऊपरवहीं बस जातेबहरे हो जातेअंधे बन

Read More »
काव्य धारा
samajsachetak

देश भक्ति काव्य लेखन प्रतियोगिता हेतु “हरियाणा गौरव गान”

हरियाणा गौरव गान (देशोsस्ति हरयाणाख्य: पृथ्व्यां स्वर्गसन्निभ:) कवि – जितेन्द्र सिंह   वीर धरा म्हारा हरियाणा………….… कर्मठ निष्ठावान सारे पासे हम छाये…….…….खेल खेत हो जंग मैदान सभी जिलों की गौरव

Read More »

युगपुरुष

बदलाव नए साल पर,कुछ तो नया पन लाओ।हो सके तो,कुछ आदतों में ही सुधार लाओ।कोई कब तक कहेगातुम सुधर जाओकभी तुम हीस्वयं को बदल कर,लोगों को अचंभित कर जाओ।चुन चुन

Read More »

सूर्योपासना

प्रातःकाल में जो प्रतिदिन,प्रेरित कर हमें जगाता है।जिस सूरज के उग जाने से,अंधियारा दूर हो जाता है।।सब उत्साहित हो-होकर,आगे बढ़ने को मचलते हैं।नीड़ छोड़कर डालों पर,पक्षी भी कलरव करते हैं।।

Read More »
नई कविता
jagdish.shamangoklani

लोहड़ी का त्यौहार

लोहड़ी का त्यौहार आया आज लोहड़ी का त्यौहार हैसबके दिलों में खिली कैसी बहार हैढोल नगाड़े पर थिरक रहा है कोईकोई गा रहा मधुर गीतों के गान है तिल में

Read More »
लघु कथा
premlatakohli

त्योहार परम्परा

त्योहार परम्परा… “अरे! यहाँ तो आज सुबह से बच्चे लोहड़ी मांगने ही नहीं आए| मैं तो बच्चों को पंजाब में लोहड़ी कैसे मनाते हैं, दिखाने लाई थी” सिमरन बोली| “इंग्लैंड

Read More »
मुक्तक
drpankajkcpg

महिला दिवस काव्य प्रतियोगिता हेतु कविता – निर्भया भविष्य की

कविता – 1 सास-ससुर-माँ-बाप रखने की चीज हैं? एक दिन मेरी शादी शुदा सहेली ने बातों-बातों में मुझसे कहा कि मैं अपने सास-ससुर को रखे हूँ इतनी बड़ी जिम्मेदारी उठा

Read More »
नई कविता
drramprakashsrivastava

जीवन और मौत में अंतर

         जीवन और मौत का अंतर  मैंने मौत को बहुत पास देखा,  हिल गई मेरे जीवन की रेखा,  वह अद्भुत विलक्षण क्षण , सचमुच प्रलयंकारी था, मुझे

Read More »

भाषा

भाषा जब से मानव तब से मैंवन आदिवास में थी मैं गुफाओं के चित्र की रेखा हर देश विविध रुप मेरा मन बुद्धि सिंचित करतीविचारों को मैं जन्म देती मुल

Read More »
नई कविता
chaurasiyadeepak327

अन्तर्राष्ट्रीय कवि सम्मेलन

“हे नारी! हे सदा सबल!” (शीर्षक) हे नारी!अब रूप धरोदुर्गा, काली, शतचंडी का,जग के असुरों का नाश करोसंहार करो पाखंडी का।तुम बन महिषासुरमर्दिनी,विनाशिनी हे कपिर्दिनी।जग में असंख्य हैं रक्तबीजव शुम्भ

Read More »

भारत

जो जन्म लिया इस धरती पर तो प्राण यहीं न्योछावर होसीचकर धरती लहु से अपना हर वीर यहाँ बख्तावर हो । गंगा जमुना तहजीब धरे,स्वर्णिम भारत ललकार रहा संस्कृतियों का

Read More »

“महिला दिवस काव्य प्रतियोगिता हेतु कविता

“महिला दिवस काव्य प्रतियोगिता हेतु कविता   मुझे नहीं बनना है अब देवी कोई   मुझे नहीं बनना है अब देवी कोई,  मुझे तुम साधारण ही रहने दो, तुम तो

Read More »
नई कविता
bmltwr

आखिरी मुहब्बत

मेरे नसीब के हर एक पन्ने परमेरे जीते जी या मेरे मरने के बादमेरे हर इक पल हर इक लम्हे मेंतू लिख दे मेरा उसे बस,हर कहानी में सारे क़िस्सों

Read More »

नन्हीं का प्रश्न।

    महिला दिवस काव्य प्रतियोगिता हेतु प्रस्तुति-   नन्हीं का प्रश्न।      मैं तेरी नन्हीं सी गुड़िया मैं झप्पी जादू की पुड़िया कोख तिहारे मैं आई हूँ लाखों

Read More »

प्रीत के ऑंगन में

 प्रेम आधारित काव्य प्रतियोगिता हेतु अंतिम तिथि-20 जनवरी     प्रीत के आँगन में।      शीतल चंचल मधुर चाँदनी भावों को महकाती है जब जब देखूँ रूप सुनहरा हिय में

Read More »

महिला दिवस काव्य प्रतियोगिता हेतु कविता – विश्व लाड़ली

– विश्व लाड़ली विश्व कि तुम लाड़ली हो!जगत कि कल्याणी हो!!इस जगत में सताई हो! फिर भी समाज को बचाई हो!! अपने ही जगत में लाड़ली!प्रेम व्यावहार कि पराई हो!!फिर

Read More »

विश्व लाड़ली

कविता – विश्व लाड़ली विश्व कि तुम लाड़ली हो!जगत कि कल्याणी हो!!इस जगत में सताई हो! फिर भी समाज को बचाई हो!! अपने ही जगत में लाड़ली!प्रेम व्यावहार कि पराई

Read More »

ऐ मेरे वतन ——||

    ऐ मेरे वतन ——|| मैं आजाद हूँ, मगर आज भी, वक्त की तलहटी पर, नजरें टिकाए बैठा हूँ ऐ वतन तुझको मैं, अपनी दुनिया बनाएं बैठा हूँ अब

Read More »
नई कविता
jrmohitkumar96

महिला दिवस काव्य लेखन प्रतियोगिता “माँ जीवन की आधार”

जन्मदात्री शक्ति दायनी मां जीवन की झंकार है, मां जीवन की आधार मां में सिमटा सारा संसार है। जीवन की मां पहली मूरत निस्वार्थ भाव की संदर्भ है, पालन-पोषण करने

Read More »
नई कविता
jrmohitkumar96

महिला दिवस काव्य लेखन प्रतियोगिता “बचा लो बेटी का सम्मान”

 सशक्तिकरण की जयकारों से गूंजेगी मां वसुंधरा, दुर्गा स्वरूपा शक्ति दायनी की चर्चाओं से अंर्तमन मेरा पूछ पड़ा, वेदों में पुराणों में महिमा नारी की गाते हो, गर्भ में कन्या

Read More »
नई कविता
madhurmilannayak

जय भारत, जय भारती

कविता*जय भारत , जय भारती* खाते हैं जिस देश कागाते है उसी देश काक्योंकि यह धरती हमारी माता हैजय भारत , जय भारतीसिवा मुझे नहीं कुछ आता है कल-कल बहती

Read More »

देश भक्ति की दो कविताएँ

अरुण कमल वरिष्ठ अनुवाद अधिकारी रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन मुख्यालय डीआरडीओ भवन राजाजी मार्ग नई दिल्ली-110011 मो -9811015727 [email protected]     देश भक्ति काव्य प्रतियोगिता के लिए दो कविताएँ

Read More »
काव्य धारा
nandlalmanitripathi

देश प्रेम

तन वतन के लियेमन वतन के लिएभाव भावनाए वतन का प्रवाहवतन ही जिंदगी वतन ही पहचान ।।वतन पर जीना मरना ही ख्वाब हकीकत अरमान वतन सलामत रहे वतन से ही

Read More »

महिला दिवस काव्य प्रतियोगिता शीर्षक मां दिनांक 2 जनवरी 2021

मां,,,,, 1,,, मां चंदा की चांदनी ,मां सूरज की धूप।। वक़्त पड़े ज्वालामुखी ,वक्त़ पड़े जल रूप।। 2,,,, सरिता मां की नम्रता, इसमें इतना प्यार।। जीवन भर टूटे नहीं, जिसकी

Read More »

देश भक्ति काव्य लेखन प्रतियोगिता

“देश भक्ति काव्य लेखन प्रतियोगिता” हेतु   साष्टांग नमन तुमको करती, शत बार नमन तुमको करती। मिट्टी से इसकी तिलक करूं, मैं देश नमन तुमको करती ।।      

Read More »
गीत
jagdish.shamangoklani

हिन्दी हमारी शान

हिन्दी हमारी आन हैहिन्दी हमारी शानहिन्दी से बना हिन्द हमाराहिन्दी से जिंदा है हिन्दुस्तान हिन्दी से हमारी जय जयकारप्रगति का यहीं आधारशब्द सरिताएं समाती इसमेंसागर सा है विशाल आकर आओ

Read More »

प्रेम काव्य लेखन प्रतियोगिता

-सृजन आस्ट्रेलिया ई पत्रिका(प्रेम कविताएँ)-यही आस अंतिम बाक़ी-प्यार किया जाता है कैसे,मिले जो तुमसे सीख गए मोहनी मूरत साँवली सूरत,पर हम तेरी रीझ गए बच्चों जैसी बातें तेरी,मीठी-मीठी सी मुस्कान

Read More »

International Desh bhakti Kavya pratiyogita

देशभक्ति कविता   जय जवान – जय किसान   यह देश है वीर जवानों का, यह देश है वीर किसानों का। उनके ही कन्धों पर भार है पूरे हिन्दुस्तान का।

Read More »
नई कविता
navneetshukla2021

डा० स्नेहिल पांडेय की कविता “बनों महान”

नन्हे मुन्ने बनो महान…तुम सब हो भारत की संतान..कोयल जैसी बोली बोलो..शीतल मंद पवन से डोलो…तरु की घनी छांव सी छाया ..उपकारी हो तेरी काया..फूलों की खुशबू से महको..नन्ही गौरैया

Read More »
काव्य धारा
shabnamsharma2006128

देशभक्ति काव्य लेखन प्रतियोगिता

श्रद्धांजलि आज मेरा दिल उन वीरों को श्रद्धांजलि देने के लिए, अपने आप ही नतमस्तक है, जिन्होंने अपने प्राणों की बाज़ी लगाने में तनिक भी संकोच नहीं किया, पलटकर सूनी

Read More »

देशभक्ति काव्य लेखन प्रतियोगिता

-सृजन आस्ट्रेलिया अंतरराष्ट्रीय ई पत्रिका(देशभक्ति काव्य प्रतियोगिता)-ओज की रसधार-माँ वाणी से राष्ट्रहित उपहार माँगता हूँशब्द-शब्द में ओज की रसधार माँगता हूँ बात जब-जब भारत स्वाभिमान की उठेगीदेश ख़ातिर प्राणों के

Read More »

देश की मिट्टी

“देशभक्ति-काव्य लेखन प्रतियोगिता” हेतु कविता –देश की मिट्टी     देश की मिट्टी  अपने देश की मिट्टी की,  बात ही कुछ और हैं|  खेत खलिहानों में दमकते,  सरसों की फूलगियों पर

Read More »
कवि सम्मेलन
anuradha.keshavamurthy

अंतर राषट्रीय कवि सम्मेलन हेतु प्रेम काव्य लेखन प्रतियोगिता

  अंतरराष्ट्रीय कवि सम्मेलन हेतु,प्रेम काव्य लेखन प्रतियोगिता हेतु मनु–कुल का सृजन- श्रृंगार   अधूरा है जीवन जिए बिन श्रृंगार, रसिकता ही जीवन का नित आधार। भावानंद है प्रणय का

Read More »

कामना

प्यार के शब्द की अनकही सी वही अपने दिल की ग़ज़ल गुनगुना दीजिए दर्द देता है मायूस चेहरा सनम मेरी खातिर जरा मुस्कुरा दीजिए लाखों की भीड़ में गुमशुदा मैं

Read More »
अनूदित कविता
rajvibha07

“गाथा वीर सपूतों की”

भारत के वीर सपूतों की गाऊँ मैं गाथा नित्य प्रति,  हर- हर महादेव के बोलों को दोहराऊंगी मैं नित्य प्रति| आकाश पे पड़ती रेखाएँ करे उनके शौर्य का गुणगान,  जल

Read More »

देश भक्ति काव्य लेखन

कविता ……( 1 ) ” वीर सपूतों की गाथाएं “ वीर सपूतों की गाथाएं हमने तुम्हे सुनाई हैबैरी को जिसने सीमा पर जमकर धूल चटाई हैखड़ा हुआ सरहद पर प्रहरी

Read More »
काव्य धारा
Manoranjan Kumar Tiwari

बेचारी बन्नी की मम्मी

बेचारी बन्नी की मम्मी ————————-सुबह से रात हो जाती है,लगी रहती है,अपने घर को सजाने में,बच्चे जो है बिगड़ैल,उन्हे सँवारने में।वह रोज अपने दो कमरे के घर में,सेण्ट छिटकती है,कोने-कोने-

Read More »
अनूदित कविता
archanaroy20

वो हार कहां मानती है!( महिला दिवस काव्य प्रतियोगिता हेतु)

 वो हार कहां मानती है! सुबह की मीठी धूप सी सुकून भरी गीत वो वोअरुणिमा है शाम की हर सुख -दुख की मीत वो!!वो शक्ति की प्रतीक हैवो सृष्टि का

Read More »

“देशभक्ति-काव्य लेखन प्रतियोगिता ” हेतु कविता – वीरों को देश का वन्दन

वीरों को देश का वन्दन उन वीरों को देश का वन्दन, जो प्राणों को वारे हुए हैं, अपनी खुशबू दे के वतन को, आज वो चाँद-सितारे हुए हैं ।  हम

Read More »

“देशभक्ति-काव्य लेखन प्रतियोगिता ” हेतु कविता – वीरों का वन्दन होना चाहिए

वीरों का वंदन होना चाहिए इस देश का अम्बर रोता है, इस देश की धरती रोती है, जब-जब वीर जवानों को, भारत माता खोती है ।  अलगाववाद के नाम पर,

Read More »
अनूदित कविता
gourinamostute

प्यारा भारत

                                                   देशभक्ति काव्य लेखन हेतु     

Read More »

“देशभक्ति-काव्य लेखन प्रतियोगिता” हेतु कविता – जाग वीर  

जाग वीर   जाग वीर वीरता भर ,निंद्रा का तू त्याग कर दे भारती के आन पर तू, प्राण का बलिदान कर दे प्रस्थान कर सीमाओं पर, अरि को तू

Read More »

देशभक्ति काव्य प्रतियोगिता

1****** “मातृ वन्दना” ***** हे जन्मभूमि, हे कर्मभूमि, हे धर्मभूमि है तुझे प्रणाम! ऐ रंगभूमि, ऐ युद्वभूमि, ऐ तपोभूमि है तुझे प्रणाम!! सम्प्रदायों की सरिताएँ हैं, बहु धर्मों का संगम

Read More »

गुलाम

गुलाम 3 – रेत रेत खेलती लङकियों ने फैसला कियाअब नहीं खेलेंगे रेत रेतऔर  कुछ हाथों ने अचानक बन्दूक थाम लियानेस्तोनाबूत कर दिए गयेकितनी गुङियों के घरतोङ दी गई कलमेंफाङ डाले

Read More »
काव्य धारा
hetrambhargav

प्रेम काव्य लेखन प्रतियोगिता हेतु “यादें”

यादें [“हरिश्चंदा” (प्रेम की अनन्य गाथा) प्रेम काव्य कविता का नायक हरि अपनी चंदा का स्मरण करते हुए लेखक “हिंदी जुड़वाँ”] मैं पलट रहा हूं पन्ना पन्ना, यादों की परछाई

Read More »

MAHILA DIWAS PRATIYOGITA

मै हू एक नारी सबला होकर भी क्यों पुकारते है अबला हर वक्त हर कदम ये सवाल रहता साये की तरह पीछे सोच सोच कर हार जाती हू जवाब ढूड

Read More »
काव्य धारा
charitdixit

भारत माँ से अनुरोध

राष्ट्र की ये दुखियारी धरती स्वर्ग बना दे भारत माँ,अपनी ममता के अमृत से इसे सजा दे भारत माँ। देश के कपटी भ्रष्टाचारी तुझसे धोखा करते हैं,तेरे ही आँचल में

Read More »
काव्य धारा
charitdixit

भारत को स्वर्ग बनाना है।

आज हमें भारत को स्वर्ग बनाना है,अपने श्रम की बूंदों से सजाना है। चलें राष्ट्र के गौरव को बढ़ाने हम,आओ तोड़ दें सभी स्थूलता का ये भ्रम,नहीं रहेगा भारत अब

Read More »
काव्य धारा
pankaj15feb

देश भक्ति-काव्य लेखन प्रतियोगिता हेतु कविता

शहीदों के खून की खुशबू मिटने नही देगे,  हम अपने परचम को कभी झुकने नही देगे | हमे लुटने के दर्द का अहसास हो चुका है,  बमुश्किल सम्हले है आबरू

Read More »

देशभक्ति-काव्य लेखन प्रतियोगिता हेतू कविता “भारत वंदना”, “अमन के रखवाले”, “मातृभूमी”, “राष्ट्रहित”, “मत लाशो का व्यापार करो”

    1. भारत वंदना आतंकित पीड़ित है आज गौरवमयी भारत माँ अर्पित कर दे तेरी सेवा में तन-मन-धन धानी के अंचल में तरुणाई सोती है सावन के झूलों को

Read More »
काव्य धारा
samidhanaveenvarma

गणतन्त्र दिवस

गणतन्त्र दिवस छब्बीस जनवरी उन्नीस सौ पचास कोमेरा भारत घोषित हुआ गणतन्त्रसंविधान लागू हो गया और भारत बन गया पूर्ण गणतन्त्र । पर यह मुकाम हासिल करने में,कितनों ने जान

Read More »

देशभक्ति-काव्य लेखन प्रतियोगिता हेतु कविता

शहीद  देश की आन पर कुर्बान हो गए  सरहदों पर जो अड़े मेरी जान हो गए  हूँकारते रहे वो सिहं सी दहाड़ से  मात दे वो मौत को हिंदुस्तान होगए  

Read More »
काव्य धारा
bhargavahari22

प्रेम काव्य लेखन प्रतियोगिता हेतु “मिलन”

मिलन प्रिय जब से सुनी है मेरे कानों में तेरे कदमों की आहट।दिल धड़कने लगा है, बैचेनी बढ़ी, बढ़ गयी घबराहट। थम गई है सांसे तुमसे तुम्हारा प्रेम छुपाना चाहती

Read More »
काव्य धारा
sharmamk1985

देश भक्ति प्रतियोगिता हेतु प्रेषित कविता- कविता का शीर्षक-1 लोकतंत्र 2.वो देश है…मेरा 3. वक्त पे संभालने वालों..!!

देश भक्ति काव्य लेखन प्रतियोगिता के लिए प्रेषित कविताएं   1.कविता का शीर्षक :- लोकततंत्र लोकतंत्र की राजनीति में,       ‘लोक’ खो गया ‘तंत्र’ बाकी हैं।       

Read More »
नई कविता
padma.pandyaram

देश भक्ति काव्य लेखन प्रतियोगिता

      परिचय:   नाम   –  डॉ . पद्मावती जन्म स्थान -दिल्ली, मातृ भाषा-   तेलुगु शैक्षिक योग्यता – एम ए ,एम फ़िल , पी.एच डी , स्लेट. (हिंदी) अध्यापन कार्य

Read More »

चादर

वक्त की चादर ओढ़े बैठा खुदको ढूंढता रहता हूँ मैं।दुनियां बहुत बड़ी है लेकिनमैं उस चादर में ही सिमटा रहता। डर से भाग रहा हूँ खुदकेऔर मैं खुद में ही

Read More »

परधानी का चुनाव

परधानी का चुनाव——————————चुनाव प्रचार पर आएमचमचाती गाड़ी से लखदख उजलेलिबास वाले प्रधानजी नेएक युवा से पूछा –गांव में अब कितने आदमी होंगे?युवा मोबाइल में देखते हुए बोला – एक भी

Read More »

देशभक्ति कविता प्रतियोगिता

मेरा देश  कश्मीर से कन्याकुमारी फैला जिसका रूप है,  प्यारा अपना देश है वो प्यारा अपना देश है,  गंगा जी की निर्मल धारा हिमालय की कोख़ है,  सागर से मिलकर

Read More »

देशभक्ति-काव्य लेखन प्रतियोगिता” हेतु कविता –शहीदों के बूँद-बूँद रक्त का कर्जदार हुआ हूँ मैं

देशभक्ति-काव्य लेखन प्रतियोगिता” हेतु कविता –शहीदों के बूँद-बूँद रक्त का कर्जदार हुआ हूँ मैं ———————————————- ये जिंदगी तेरे नाम कर दी मैंनेहम-वतन शहीदों के नाम कर दी मैंनेशहीदों के बूँद-बूँद

Read More »

हमरा तिरंगा

  अन्तरराष्ट्रीय देशभक्ति काव्य लेखन प्रतियोगिता में प्रेषित मेरी प्रविष्टि-स्वरचित, मौलिक,सर्वथा अप्रकाशित एवं अप्रसारित देशभक्ति गीत—शीर्षक-“हमरा तिरंगा” हमरा तिरंगा गगन में लहराए रेहमरा तिरंगा..हमरा तिरंगाइस झंडे में तीन रंग साजें

Read More »
अनूदित कविता
anjusinghgahlot

हमरा तिरंगा

  अन्तरराष्ट्रीय देशभक्ति काव्य लेखन प्रतियोगिता में प्रेषित मेरी प्रविष्टि-स्वरचित, मौलिक,सर्वथा अप्रकाशित एवं अप्रसारित देशभक्ति गीत—शीर्षक-“हमरा तिरंगा” हमरा तिरंगा गगन में लहराए रेहमरा तिरंगा..हमरा तिरंगाइस झंडे में तीन रंग साजें

Read More »
गीत
amarkantkumar1959

देशभक्ति काव्य लेखन प्रतियोगिता हेतु “भारत अपना देश “

भारत अपना देश  भारत अपना देश आज यह सोच न क्यों इठलाएँ  यही हमारी मातृभूमि ले नाम न क्यों इतराएँ ।। खिले यहीं राणा प्रताप, शिवा- से फूल निराले  आजादी

Read More »
गीत
amarkantkumar1959

देशभक्ति काव्य लेखन प्रतियोगिता हेतु “युवा पीढ़ी के नाम”

युवा पीढ़ी के नाम…. नव जवानों देश का संदेश चाहता कुछ आज हमसे है हमारा देश ।। आज इसको चाहिए स्वर्णिम रसा का प्राण  चाहिए इसको अभी कर्मठ युवा की

Read More »
गीत
mcdiwakar

हिंदी

*राष्ट्र की भाषा*१४+१४भारत की सारी भाषाएं!हिंदी से सबकी निष्ठाएं! अंग्रेजी ने दास बनाया;कैसे उससे प्यार निभाएं? हिंदी मां के पथ में उर्दू;नित नित खड़ी करे बाधाएं! एक हाथ से बजे

Read More »
काव्य धारा
mds.jmd

देश भक्ति काव्य लेखन प्रतियोगिता हेतु “भारत के पूत”

भारत के पूत धन्य भारत के वीर सपूतधन्य भारत की माताएँ।मातृभूमि की रक्षा के हित,निज जीवन कुर्बान किए। कारगिल की जंग हो चाहेआपदा से लड़ने की बारी।भारत भू की ललनाओं

Read More »
काव्य धारा
hetrambhargav

देश भक्ति काव्य लेखन प्रतियोगिता हेतु “भारत के पूत”

भारत के पूत कारागार के कोने में, बंधे हुए थे वीर जंजीरों में सुने नहीं कोई वीर ऐसे, अब तक हमने वीरों मेंवे सहिष्णु विवश नहीं, उनसा कोई महान नहीं

Read More »
काव्य धारा
msk6009

देश भक्ति काव्य लेखन प्रतियोगिता हेतु ” भारत के आन्दोलन की हिंदी भाषा”

छोडो जी अंग्रेजी भाषा  अंग्रेजी की बात पुरानी  भारतवासी सब मिलकर हम सिखेंगे हिंदी भाषा  हम हिंदुस्‍तानी, हम हिंदुस्‍तानी, हम हिंदुस्‍तानी, हम हिंदुस्‍तानी   ।। 1 ।।             बापु जी की

Read More »
क्षणिकाएं
asheesh.dube

महिला दिवस काव्य प्रतियोगिता हेतु कविता – एक युद्ध स्‍त्री को लेकर

द्रुत गति से बहती सरिता की  कलकल है या विस्मय के होठों पर ठहरा पल है काश.. कभी  आगे भी इसके जान सकूँ अभी तो.. नारी मेरे लिए कुतूहल है

Read More »
काव्य धारा
hindijudwaan

देश्भक्ति काव्य लेखन प्रतियोगिता हेतु रणयोद्धा मेरे भारत के”

रणयौद्धा मेरे भारत के   ये रणयौद्धा मेरे भारत के मेरे देश के सच्चे रखवाले सीना तान खड़े सीमा पर मेरे भारत के वीर मतवाले अटल शिखर हिमालय की आन

Read More »

कृष्ण की लगन

                               कृष्ण की लगन मैं जबसे हुई तेरी भक्ति में मगन,संसार के सुखों में रमे ना मेरा मन,जैसे राधा को लगी हो कृष्ण की लगन,वैसे ही तेरे नाम पर थिरकता

Read More »

देश निराला सब से अपना

http://कविता(देशभक्ति प्रतियोगिता हेतु ) है देश निराला सबसे अपना है देश निराला सबसेअपना सबके दिल में ये बस्ता है, जो देश को ना समझे अपना, वो मृत जीव से भी

Read More »
नई कविता
opgupta.kdl

देशभक्ति काव्य पाठ प्रतियोगिता हेतु

जनम जनम का रिश्ता  ……………………… यह रिश्ता प्यारा जनम जनम का, मैं किस तरह, इसे इजहार  करूँ , संकट से भरा यह भाजन हमारा,  सुख से कैसे तुम्हारा आभार करूँ

Read More »

हिंदुस्तान हमारा है

“वन्देमातरम” से लेकर “जन – गन – मन” तक जो दिल में बसता है यह हिंदुस्तान हमारा है, “खेतों की हरियाली” से “तकनीकी उद्योगों” तक जो निरंतर चलता है यह

Read More »
कवि सम्मेलन
bmltwr

देशभक्ति-काव्य लेखन प्रतियोगिता हेतु कविता , “3 देश भक्ति कविता”

*1-कारगिल युद्ध गाथा* कारगिल में गूँज उठी थी,शूरवीरों की ललकारपाकर सह शैतानों का जब घुस आए थे आतंकी हज़ारदेश की तब सरकार जगी,सुनकर शैतानों की फुँफकारलेकर राय देश से सारा

Read More »
गीत
asheesh.dube

देशभक्ति-काव्य लेखन प्रतियोगिता” हेतु कविता – राष्ट्र वंदना

मुक्त चित् प्राण मन से, अहोराष्ट्र की वन्दना हम करेंशुद्ध चित् प्राण मन से, अहोअभ्यर्थना हम करेंराष्ट्र ही शक्ति हैराष्ट्र ही भक्ति हैराष्ट्र में ही हमारी भीअभिव्यक्ति हैमुक्त चित् प्राण

Read More »
गीत
bmltwr

मैं

*।।मैं।।*मैं चिर नवीन मैं अति प्राचीनमैं खुशमिज़ाज मैं ग़मशीन मुझमें यह संसार समाया हैंमुझसें मोह मोक्ष माया हैं मैं अस्तित्व हुँ , मैं व्यक्तित्व हुँमैं लघुत्व और मैं प्रभुत्व हुँ

Read More »
काव्य धारा
opgupta.kdl

प्रेम काव्य लेखन प्रतियोगिता हेतु

वारिस की पहली फुहार में  …………………………… जब से तुम परदेशी हो गये, खूब आते सुनहले सपने में, सजना,तुम अब होते दीदार, बस हमारे पलक झपकने में ।1।      

Read More »