न्यू मीडिया में हिन्दी भाषा, साहित्य एवं शोध को समर्पित अव्यावसायिक अकादमिक अभिक्रम

डॉ. शैलेश शुक्ला

सुप्रसिद्ध कवि, अनुवादक, पत्रकार,
चिंतक एवं न्यू मीडिया विशेषज्ञ

सृजन ऑस्ट्रेलिया / SRIJAN AUSTRALIA

6 मैपलवे, टारनेट, विक्टोरिया, ऑस्ट्रेलिया से प्रकाशित, विशेषज्ञों द्वारा समीक्षित, बहुविषयक अंतर्राष्ट्रीय ई-पत्रिका

A Multidisciplinary Peer Reviewed International E-Journal Published from 6 Mapleway, Tarneit, Victoria, Australia

डॉ. शैलेश शुक्ला

सुप्रसिद्ध कवि, अनुवादक, पत्रकार,
चिंतक एवं न्यू मीडिया विशेषज्ञ

श्रीमती पूनम चतुर्वेदी शुक्ला

सुप्रसिद्ध चित्रकार, समाजसेवी एवं
मुख्य संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

गीत
thevivek2015

विवेक का नया गीत- हर मोड़ पर जिसके लिये, ख़ुद को जलाया है…

हमने हर मोड़ पर जिसके लिये, ख़ुद को जलाया है। उसी ने छोड़कर हमको, किसी का घर बसाया है।। किया है जिसके एहसासों ने,  मेरी रात को रोशन। सुबह उसकी

Read More »
गीत
pawanjangra00007

पवन जांगड़ा का गीत, – “बेटी नाम कमावैगी”

बेटी की क्यूट स्माइल नै, देख लाडो की प्रोफाइल नै यो पापा होग्या फैन. यो पापा होग्या फैन। र बेटी धूम मचावैगी, र बेटी नाम कमावैगी.. र बेटी धूम मचावैगी,

Read More »
बालगीत
navneetkshukla013

नवनीत शुक्ल की नई कविता- ‘पुस्तक बोली ‘

बच्चों से इक पुस्तक बोली, जितना मुझे पढ़ जाओगे। उतने ही गूढ़ रहस्य मेरे, बच्चों तुम समझ पाओगे।। मुझमें छिपे रहस्य हजारों, सारे भेद समझ जाओगे। दुनियाँ के तौर-तरीकों से,

Read More »
कहानी
jhasubhash4u

कोरोना और मध्यम वर्ग

” सुनो जी ! आटा खत्म हो गया है। चावल भी दो दिन और चलेंगे। राशन लाना ही पड़ेगा अब तो। कब तक ऐसा चलेगा। ताज़ी हरी सब्जियां तो लाते

Read More »
कथा कलश
chandnisamer1

अपना-अपना चाँद

उस बड़े से बँगले के बाहर वो रोड लैम्प। जिसके नीचे रोज़ ही झोपड़पट्टी का एक बच्चा आ बैठता है। मगर आज वहाँ एक और बच्चा है। पहले बच्चे ने

Read More »
काव्य धारा
hindijudwaan

हेतराम हरिराम भार्गव की नई कविता- मैं वही तुम्हारा मित्र हूं..

मैं वही तुम्हारा मित्र हूं… मैं धर्म निभाता मानवता का, मैं सत्य धर्मी का मित्र हूँ न्याय उचित में सदा उपस्थित, मैं धर्म प्रेम का चरित्र हूँ मैं सदा मित्र

Read More »

‘स्वादु’ जैसा स्वाद लिए है ये ‘साडनफ्रोइडा’

सामयिक लेख: शब्द अनमोल सुशील कुमार ‘नवीन’ दुनिया जानती है हम हरियाणावाले हर क्षण हर व्यक्ति वस्तु और स्थान में ‘संज्ञा’ कम ‘स्वाद’ ज्यादा ढूंढते हैं। ‘सर्वनाम’ शब्दों का प्रयोग

Read More »

सबकुछ नम्बर वन तो जीरो नम्बर क्यों लें जनाब !

सामयिक व्यंग्य: पावर ऑफ टाइम सुशील कुमार ‘नवीन’ राजा नम्बर वन, मंत्री-सभासद नम्बर वन। प्रजा नम्बर वन,प्रजातन्त्र नम्बर वन। प्रचार नम्बर वन, प्रचारक नम्बर वन। प्रोजेक्ट नम्बर वन, प्रोजेक्टर नम्बर

Read More »