न्यू मीडिया में हिन्दी भाषा, साहित्य एवं शोध को समर्पित अव्यावसायिक अकादमिक अभिक्रम

डॉ. शैलेश शुक्ला

सुप्रसिद्ध कवि, न्यू मीडिया विशेषज्ञ एवं प्रधान संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

सृजन ऑस्ट्रेलिया | SRIJAN AUSTRALIA

6 मैपलटन वे, टारनेट, विक्टोरिया, ऑस्ट्रेलिया से प्रकाशित, विशेषज्ञों द्वारा समीक्षित, बहुविषयक अंतर्राष्ट्रीय ई-पत्रिका

A Multidisciplinary Peer Reviewed International E-Journal Published from 6 Mapleton Way, Tarneit, Victoria, Australia

डॉ. शैलेश शुक्ला

सुप्रसिद्ध कवि, न्यू मीडिया विशेषज्ञ एवं
प्रधान संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

श्रीमती पूनम चतुर्वेदी शुक्ला

सुप्रसिद्ध चित्रकार, समाजसेवी एवं
मुख्य संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

रोटी बैंक छपरा के सेवा

  #एक_सेवा_ऐसा_भी  *नि:स्वार्थ भाव से भूखे को  भोजन कराते है*     भारत का एक राज्य है बिहार , जिसकी राजधानी है पटना। पटना के पास ही एक जिला है

Read More »

दोहा त्रयी :….आहट 

दोहा त्रयी :….आहट    हर आहट में आस है, हर आहट विश्वास।हर आहट की ओट में, जीवित अतृप्त प्यास।।   आहट में है ज़िंदगी, आहट में अवसान।आहट के परिधान में,

Read More »

जीने से पहले ……

जीने से पहले ……   मिट गईमेरी मोहब्बतख़्वाहिशों के पैरहन में हीजीने से पहले   जाने क्या सूझीइस दिल कोसंग से मोहब्बत करने कावो अज़ीम गुनाह कर बैठाअपने ख़्वाबों कोअपने

Read More »
आलेख
monjurideka99

*शिक्षा और समाज में समावेश के लिए बहुभाषावाद को बढ़ावा दे*

*शिक्षा और समाज में समावेश के लिए बहुभाषावाद को बढ़ावा दे* हर साल 21 फरवरी को अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस मनाया जाता है। मानवीय अस्तित्व भाषा के साथ इस प्रकार संबंधित

Read More »
कहानी
nandlalmanitripathi

मौन

  जुबान ,जिह्वा और आवाज़ जिसके संयम संतुलन खोने से मानव स्वयं खतरे को आमंत्रित करता है और ईश्वरीय चेतना की सत्ता को नकारने लगता है।अतः जिह्वा जुबान का सदैवसंयमित

Read More »
ग़ज़ल
nandlalmanitripathi

जिंदगी को जान मील गई

जिंदगी को आज अरमान मील गयी ख्वाबों के मुहब्बत की उड़ानमिल गयी दुनियां के झमेले में जान मील गयी।।दिल धड़कता है धड़कन बोलती है जिंदगी की हमसफर अंदाज़ मील गयी।।जिंदगी

Read More »
खंडकाव्य
nandlalmanitripathi

मुस्कुराता सूरज जीवन दर्शन

सूर्य मुस्कुराता छितिज परभाव चेतना मकसद मंजिलका पैगाम लिये।।नया सबेरा उम्मीदों विश्वास की नई किरणउदय उदित उड़ान स्वर्णिम भविष्य काउत्साह खुशियों का पैगाम लिये।।उदय प्रशांत की गहराई अंतर्मन से दिव्य

Read More »

दिल से बड़ा कोई ताज नहीं, ,,,,,,,,,,,,

क्यों आ के किनारे पर डूबी  ये कश्ती हमको याद नहीं  बस दर्दे मोहब्बत है दिल में  और इसके सिवा कुछ याद नहीं  क्या जाने दिल बेचारा ये  हार जीत

Read More »

दिल से बड़ा कोई ताज नहीं, ,,,,,,,,,,,,

क्यों आ के किनारे पर डूबी  ये कश्ती हमको याद नहीं  बस दर्दे मोहब्बत है दिल में  और इसके सिवा कुछ याद नहीं  क्या जाने दिल बेचारा ये  हार जीत

Read More »
अन्य काव्य विधाएं
nandlalmanitripathi

निराशा का दौर छोड़ जीत ही जाएंगे

निराशा का दौर छोड़आशा आस्था संचार मेंमिल जाएगा उद्देश्य मार्ग जीत ही जाएंगे ।। कदम कदम जिंदगी का जंग मुश्किलें बहुत जिंदगी एकचुनौती ,जिंदगी की चुनौतियो से जीत जाएंगे उत्सव

Read More »
नई कविता
nandlalmanitripathi

धर्म राजनीति शासन

धर्म आस्था की धतातलअवनि आकाश धर्म मर्यादा संस्कृति संस्कार।।धर्म शौम्य विनम्र युग समाजव्यवहार।।धर्म जीवन मूल्यों आचरण कासत्य सत्यार्थ।।धर्म छमाँ करुणा सेवा परोपकारकल्याण जीव जीवन का सिद्धान्त।।धर्म न्याय नैतिकता ध्येय ध्यान

Read More »
महाकाव्य
nandlalmanitripathi

नौजवान

1-जिंदगी एक संग्राम है आशा का परचम लहरा जिंदगी के कदमों केनिशाँ है।।जीवन एक संग्राम है दुख ,दर्द ,धुप और छाँव हैआशा,निराशा रेगिस्तान और तूफ़ान है।।आंसू ,गम ,मुस्कान हैशोला शबनम

Read More »
खंडकाव्य
nandlalmanitripathi

गांव

1-गाँव की माटी प्रकृति—सुबह कोयल की मधुर तानमुर्गे की बान सुर्ख सूरज कीलाली हल बैल किसान गाँवकी माटी की शोधी खुशबू भारतकी जान प्राण।।बहती नदियां ,झरने झील,तालाब पगडंडी पीपल की

Read More »
काव्य धारा
nandlalmanitripathi

फूल के जज्बात

गांव शहर नगर की गलियों कीकली सुबह सुर्ख सूरज की लाली केसाथ खिली ।।चमन में बहार ही बहार मकरंदकरते गुंजन गान नहीं मालुम चाहत जिंदगी जाने कब छोड़ देगी साथ।।रह

Read More »
नई कविता
nandlalmanitripathi

फूल की किस्मत

फूल की किस्मत को क्या कहूँबया क्या करूँ हाल । बड़े गुरुर में सूरज की पहलीकिरण के संग खिली इतरातीबलखाती मचलती गुलशनबगवां की शान।। फूल के सुरूर का गुरुर भी

Read More »

इरादे

डरने वालों को नहीं, मिलता जग में तीर ।  अटल इरादों से सदा, बनती है तकदीर । ।  सुशील सरना  Last Updated on February 20, 2021 by sarnasushil

Read More »
काव्य धारा
sandeepk62643

छोने को सीख

छोने को सीख   आ मेरे प्यारे छोने ! आज जी भर के तुझे चूम लूँ ,संग तेरे खुशियों के दो पल मैं भी झूम लूँ ;फिर ना जाने किस

Read More »
नई कविता
nandlalmanitripathi

जगदम्ब शिवा

पुणे की पुण्य भूमि माँ भारती का गौरवआँचल ज्ञान कर्म धर्मकी भूमि अभिमान।।शिवनेरी दुर्ग की माटी काकण कण दर दिवाले गवाह जीजाबाई शाह जी केशिवा जन्म जीवन का काल।।सोलह सौ

Read More »

दिल से बड़ा कोई ताज नहीं…..

दिल से बड़ा कोई ताज नहीं…..   क्यों आ के किनारे पर डूबी कश्ती हमको याद नहीं बस दर्द-ऐ-मुहब्बत है दिल में और इसके सिवा कुछ याद नहीं क्या जाने

Read More »

*हिंदी वर्ण माला के स्वर-व्यंजन का प्रयोग और मेरा गीत *

*हिंदी वर्ण माला के स्वर व्यंजन का प्रयोग और मेरा गीत ***************************************** रचयिता : *डॉ.विनय कुमार श्रीवास्तव*वरिष्ठ प्रवक्ता-पी बी कालेज,प्रतापगढ़ सिटी,उ.प्र. *अ* अभी समय है, बिना गवांये,*आ* आओ जीवन सफल

Read More »

*जर ज़मीन जोरू होती है हर झगड़े की जड़*

*जर ज़मींन जोरू होती है हर झगड़े की जड़***************************************** रचयिता : *डॉ.विनय कुमार श्रीवास्तव*वरिष्ठ प्रवक्ता-पी बी कालेज,प्रतापगढ़ सिटी,उ.प्र.   जर ज़मीन जोरू से हमेशा,हो जाती है तकरार। यही तो तीनों

Read More »

क्षणिकाएं :…..यथार्थ

क्षणिकाएं :…..यथार्थ   1. मैंकभी मरता नहींजो मरता हैवोमैं नहीं… … … … … … … 2. ज़िस्म बिनाछाया नहींऔर छाया का कोईजिस्म नहीं… … … … … … … …

Read More »
लघु कथा
lalitha.n

high way

  हाई वे कड़कती धूप की तपती  ज़मीन पर नंगे पाँव,पिचके पेट, अधेड़ उम्र का नाटा सा  आदमी  ‘हाई वे’ में “खाना तैयार है”बैनर के साथ खड़ा था। आने-जानेवालों को

Read More »
खंडकाव्य
nandlalmanitripathi

वह बेचती थी गुटका भग —3

सालों से चलता सिलसिला मेरेभी भावो का आकर्षण अधेड़ उम्र महिला की ओर बढ़ चला जो बेचती थी गुटका।।मैने भी एक दिन उस अधेड़ उम्रऔरत जो मेरे प्रतिदिन की दिनचर्या

Read More »
खंडकाव्य
nandlalmanitripathi

वह बेचती थी गुटका भग —2

आते जाते गुटखा शौख केनाते अधेड़ उम्र की औरतकी दुकान से भाव भावनाका हो गया लगाव।।अधेड़ उम्र उस औरत ने भीमुझे अपनी दुकान का नियमितग्राहक लिया मान।।जब कभी हो जाता

Read More »
खंडकाव्य
nandlalmanitripathi

वह बेचती थी गुटका

प्रातः नौ बजे दफ़्तर जाने कोचाहे जो भी हो मौसम का मिजाज।। घर से निकलता दिन शुभ मंगल होकोई ना हो विवाद अशुभ ईश्वर सेआराधन करता।। कार्यालय के मुख्य द्वार

Read More »
ग़ज़ल
nandlalmanitripathi

हंसी मुस्कान आया है

  खामोश मौसम में हंसीमुस्कान आया है ।फ़िज़ाओं की खुशबू काखास अंदाज आया हैं।।बहारें भी है खुश क़िस्मत लम्होकी ख्वाहिश में बहारो की किस्मतका कोई किरदार आया है।।खामोश मौसम में

Read More »
ग़ज़ल
nandlalmanitripathi

हंसी मुस्कान आया है

  खामोश मौसम में हंसीमुस्कान आया है ।फ़िज़ाओं की खुशबू काखास अंदाज आया हैं।।बहारें भी है खुश क़िस्मत लम्होकी ख्वाहिश में बहारो की किस्मतका कोई किरदार आया है।।खामोश मौसम में

Read More »
खंडकाव्य
nandlalmanitripathi

जेठ की भरी दोपहरी भाग -3

  अपनी हस्ती की मस्ती का मतवालाधुन ध्येय का धैर्य धीर गाताचला गया जेठ की भरी दोपहरी मेंएक दिया जलाता चला गया।।जेठ की भरी दोपहरी में एकदिया जलाने की कोशिश

Read More »
खंडकाव्य
nandlalmanitripathi

जेठ की भरी दोपहरी -2

  जेठ की भरी दोपहरी मेंएक दिया जलाने की कोशिश में लम्हा लम्हा जिये जा रहा हूँ।।भूल जाऊँगा पीठ पर लगे धोखेफरेब मक्कारी के खंजरों के जख्म दर्द का एहसास।।तेज

Read More »

है जन्म लिया मानव तन में तो नारी का सम्मान करो..

*है जन्म लिया मानव तन में तो नारी का सम्मान करो* मानवता हमें सिखाती है ये सृष्टि जननी कहलाती हैमाँ का फर्ज निभाती है जब जन्म हमें दे जाती हैचाहे

Read More »
ग़ज़ल
sandeepk62643

मुल्क़ के हालात

मुल्क़ के हालात आजकल मेरे मुल्क़ के हालात बहुत ख़राब हो गए हैं ;आवाम पर सफ़ेदपोश लुटेरों के ज़ुल्म बेहिसाब हो गए हैं । कोई खोलकर पढ़ना ही नहीं चाहता

Read More »

*नारी सशक्तिकरण-मेरी बेटी मेरा मान*

शीर्षक : @नारी सशक्तिकरण-मेरी बेटी मेरा मान@************************************(नारी सशक्तिकरण पर एक रचना)   नारी सशक्तिकरण एक फरमान है।माँ की शक्तियाँ जनता ये जहान है। इनमें अद्भुत क्षमता ऊँची उड़ान है।पृथ्वी ही

Read More »

*कफ़न में ज़ेब नहीं-सब यहीं धरा रह जायेगा*

*कफ़न में जेब नहीं-सब यहीं धरा रह जायेगा***************************************** रचयिता : *डॉ.विनय कुमार श्रीवास्तव*वरिष्ठ प्रवक्ता-पी बी कालेज,प्रतापगढ़ सिटी,उ.प्र.   जी रहा है आदमी कपड़े बदल बदल कर।ले जायेंगे 1दिन लोग कन्धा

Read More »

*कफ़न में ज़ेब नहीं-सब यहीं धरा रह जायेगा*

*कफ़न में जेब नहीं-सब यहीं धरा रह जायेगा***************************************** रचयिता : *डॉ.विनय कुमार श्रीवास्तव*वरिष्ठ प्रवक्ता-पी बी कालेज,प्रतापगढ़ सिटी,उ.प्र.   जी रहा है आदमी कपड़े बदल बदल कर।ले जायेंगे 1दिन लोग कन्धा

Read More »
खंडकाव्य
nandlalmanitripathi

आश्रित सेवारत नारी भाग एक

बचपन की खुशियां माँ बाप के मन आँगनघर आँगन की किलकारीबेटी लक्ष्मी अरमानो कीआशा प्यारी।।पलको पे बिठा रखा माँ बाप भाई बहनों नेकोई कमी नही होने दीजरा सी बात भी

Read More »
खंडकाव्य
nandlalmanitripathi

जेठ की भरी दोपहरी

  जेठ की भरी दोपहरी मेंएक दिया दिया जलाने कीकोशिश में लम्हा लम्हा जियेजिये जा रहा हूँ।।शूलों से भरा पथ शोलों सेभरा पथ पीठ लगे धोखे फरेबके खंजरों के जख्म

Read More »

वह औरत मुझे अच्छी नही लगती !

दुनिया के इस भिड में मुश्किल है स्वयंका चेहरा खोजना. हर एक चेहरा आइने मे आगे पिछे प्रतित होता. कभी सुअर का तो कभी लोमडी का. हर एक परेशांन है

Read More »
गीत
anuradha.keshavamurthy

अंबा सन्मति दे,वरदे

  अंबा सन्मति दे,वरदे   काश्मीर पुरवासिनी शारदे, अंबा सन्मति दे, वरदे। जीवन वीणा झंकृत कर दे।      लय,तालयुत श्रुति भर दे,       ।।1।।   वीणा वादिनी हे जगदंबा,       नाद सुवाहिनी माँ

Read More »

चित्रकूट

 चित्रकूट सम कूट नहिं इस दुनिया में कोय बसे राम जहाँ द्वादश साधुवेश में सोय सीता नारि तपस्विनी लखन भाइ केसंग दोऊ हाथ धनुहा लिए और साधे निसंग पयस्वनी निर्मल

Read More »
नई कविता
madanmohanthakur45

आज फिर उलफत अजीब सा

आज फिर उलफत अजीब सा है।दिल में गफलत अजीब सा है।खबर खैर का खुद ही पता सा है।मेरे मन ने क्या खोया-क्या पाया।देखो सही आँखों पे धूल सी जमी क्यों

Read More »

*लोक तान्त्रिक शासन प्रणाली में पंचायती राज व्यवस्था की भूमिका*

*लोक तांत्रिक शासन प्रणाली में पंचायती राज व्यवस्था की भूमिका*(“गाँव की सरकार” पंचायतों में सशक्त स्वशासन प्रणाली की जरुरत)**************************************** आलेख : पंचायती राज व्यवस्था की दृष्टिकोण से देखा जाये तो

Read More »

*ऋतुराज वसंत का शुभागमन*

    रचना शीर्षक :*ऋतुराज वसंत का शुभागमन*     कुछ धूप खिली कुछ फूल खिले।मौसम भी देखो ले रहा अंगड़ाई। अब शरद ऋतु यह है जाने वाली।नहीं पड़ेगी ओढ़नी

Read More »

“जीवन महके फूलों जैसा,हर दिन खुशहाली हो”

*जीवन महके फूलों जैसा-हर दिन खुशहाली हो*(सृजन ऑस्ट्रेलिया- साहित्यिक यात्रा गौरवशाली हो)**************************************** रचियता : *डॉ.विनय कुमार श्रीवास्तव*वरिष्ठ प्रवक्ता-पी बी कालेज,प्रतापगढ़ सिटी,उ.प्र.   जीवन महके फूलों जैसा,हर दिन खुशहाली हो।सुख के

Read More »

वेलेंटाइन डे स्पेशल गीत-हम मीतों के हैं मीत

*वैलेंटाइन डे स्पेशल गीत-हम मीतों के हैं मीत*****************************************   रचयिता : *डॉ.विनय कुमार श्रीवास्तव*वरिष्ठ प्रवक्ता-पी बी कालेज, प्रतापगढ़ सिटी,उ.प्र.   सभी मनाते हैं ये “वैलेंटाइन डे”।आठ दिवसों का ये गजब

Read More »

पुलवामा हमले के शूरवीर,तिरंगे की शान शहीदों को नमन हमारा

पुलवामा घातक हमले के हे शूरवीर।तुमको शत शत नमन हमारा हे वीर।। हे देश के रक्षक,तुम्हें शत- 2 प्रणाम।माँ भारती के लाल,तुझे मेरा प्रणाम।। प्राणों की शहादत,देकर करते रक्षा।तेरा बलिदान

Read More »
काव्य धारा
bhargavahari22

पुलवामा शहीदों को नमन

पुलवामा शहीदों को नमन हमारे देश के वीर सिपाही जो सीमा पर रक्षा करते हुए आज के ही दिन 14 फरवरी 2019 को पुलवामा हमले में शहीद हो गए उन

Read More »

देखा है मैंने …!

  देखा है ? मैंने देखा है लोगों को करीब से बदलते देखा है…!   जो लोग बातों – बातों में ही अपना हाल – ए दिल बयां करते थे..!

Read More »
अनूदित कविता
ddeep935

“वैलेंटाइन याद रह गया उनको याद करेगा कौन”

  एक गुलाब उन शहीदों के नाम…… “वेलेंनटाइन याद रह गयाउनको याद करेगा कौन…….! ख़ुद की हस्ती मिटाई जिसनेसरहद पे जान गवाईं जिसने,हिना भी ना सुखी हाथों कीमाथे की बिंदियां

Read More »
ग़ज़ल
nandlalmanitripathi

काश तुम होते

काश तुम मेरी ज़िंदगी में जो होते ज़िंदगी से इतनी शिकायत न होती।। वफ़ा ज़िंदगी में बेवफाई न होती मोहब्बत के हम भी मसीहा ही होते जिंदगी में इतनी रुसवाई

Read More »
कहानी
nandlalmanitripathi

मजदूर भाग-1

 रामू उठ भोर हो गया कब तक सोते रहोगे जो सोता है वो खोता है जो जागता है पाता है रामू के कानो में ज्यो ही पिता केवल के शब्द

Read More »
कहानी
nandlalmanitripathi

मजदूर भाग -2

रामू अपने कार्यालय में एक दिन सुबह ठीक दस बजे पंहुचा आये पत्रों को और समस्याओं को पढ़ता शुरू किया और उसके उचित निदान का निर्देश अपने पी आर ओ

Read More »
अनूदित कहानी
nandlalmanitripathi

सभिसप्त ज़िंदगी

जन्म दिन मुबारख हो बेटा रिया आज तुम्हारा दसवीं का परिणाम भी आने वाला है आज का दिन तुम्हारे जीवन के लिये बहुत महत्व्पूर्ण है आज का दिन तुम्हारी ढेर

Read More »
ग़ज़ल
sandeepk62643

बहुत मुश्किल होगा

बहुत मुश्किल होगा     बहुत मुश्किल होगा बिन तेरे हम से जी पाना ।तुझे भुला कर किसी और से दिल लगाना ।। बेचैन दिल का हाल किसे बताए सीने

Read More »

कर्ज़

“मालिक ! अब मुझे इस कर्ज़ से उऋण कर दीजिए। जितने रूपये मैंने आपसे लिए थे, उसके तीन गुना तो अबतक दे चुका हूँ। ” –  हरिया, बाबू श्यामलाल के

Read More »
अनूदित कहानी
suresh24jawali

भीख का मोल

समुद्र के किनारे बसे एक शहर में मेला लगा हुआ था । बहुत दूर दूर से व्यापारी मेले व्यापार करने आये हुए थे । अनेकों तरह के सामानों से सजे

Read More »

बेटी तुम संघार करो

  शीर्षक : – बेटी तुम संघार करो   यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते की            प्रथा बदल रही भारत में, बेबस बेचारी बेटी की       

Read More »

भारतीय दर्शन संस्कृति परम्पराएँ सहिष्णुता और शान्ति

भारतीय दर्शन संस्कृति परम्पराएँ सहिष्णुता और शान्तिभारतीय समाज एवं संस्कृति की एक अनूठी विशेषता है- विविधता में एकता। इस विशेशता ने ही इसे अनन्त काल से अब तक जीवित रखा

Read More »
अनूदित कहानी
suresh24jawali

ज़िम्मेदार बचपन

मेरे घर से कुछ ही दूरी पर रेलवे स्टेशन है । और रेलवे स्टेशन की दूसरी ओर एक छोटा सा बाजार । हमारे गांव के लोग अकसर बज़ार जाने के

Read More »
गीत
anuradha.keshavamurthy

वापस आओ ओ मेरी माँ

  वापस आओ ओ मेरी माँ   सात समंदर पारकर, हुई हो तुम आँखों से ओझल, मिले बिन तुझे ओ मेरी माँ मेरा मन हुआ है मरुस्थल। विदेश में रहकर

Read More »

कलम के जादूगर रामवृक्ष बेनीपुरी के गांव में

<span;>कल जहां बसती थी खुशियां आज है मातम वहां…। हिंदी फिल्म ‘वक्त’ का यह मशहूर गीत रामवृक्ष बेनीपुरी के गांव पर सटीक बैठता है। जिस बेनीपुर में कभी साहित्यिक गोष्ठियों

Read More »
काव्य धारा
hindijudwaan

मन करता है

मन करता है मन करता है चिड़िया  बनकर तेरे पास  चला  आऊँ मन करता है तेरे कोमल हाथों में चुनकर दाने खाऊँ  मन करता है तूँ कलम तूँ ही स्याही,

Read More »
खंडकाव्य
nandlalmanitripathi

निकलता सूरज छँटता अंधेरा

छँट जाएगा अँधेरा विश्वाश कीजिये सूरज निकलने का इंतज़ार कीजिये।। छोड़िए मायूसी अब कदम बढाईये मुश्किलें बहुत लड़ते बढ़ते जाईये ।। छँट जाएगा अँधेरा विश्वाश कीजिये सूरज निकलने का इंतज़ार

Read More »

लेखक लेखनी मत छोड़

लेखक, लेखनी मत छोड़,सत्य बता झूठ को तोड़,सच का मुँह ना फोड़,मोह अगर कोई दे दे तो भी,सच का साथ कभी ना छोड़,लेखक, लेखनी मत छोड़।सत्य का संगत संकट से

Read More »
अनूदित गीत
nandlalmanitripathi

अभिसप्त जिंदगी

  यह कहानी सत्य घटना पर आधारित है भूत प्रेत पुनर्जन्म आदि तकिया नुकुसी बातो में आज का विज्ञान वैज्ञनिक युग का युवा वर्ग स्वीकार नहीं करता है।आज के इसी

Read More »
अनूदित कहानी
nandlalmanitripathi

जन्मों के प्यार का इंतज़ार

– जन्म दिन मुबारख हो बेटा रिया आज तुम्हारा दसवीं का परिणाम भी आने वाला है आज का दिन तुम्हारे जीवन के लिये बहुत महत्व्पूर्ण है आज का दिन तुम्हारी

Read More »
कथात्मक व्यंग्य
sandeepk62643

जंगल में चुनाव

जंगल में चुनाव   डैशबोर्ड मेरा खाता रचनाएं/आलेख भेजिए लॉग आउट                       सृजन ऑस्ट्रेलिया | SRIJAN AUSTRALIA 6 मैपलटन वे, टारनेट, विक्टोरिया,

Read More »
अनूदित कहानी
nandlalmanitripathi

खोपड़ी

  ठाकुर सतपाल सिंह का स्मारक बन चुका था अब लाला गजपति और पंडित महिमा दत्त के पास गांव वालों में किसी नए विचार की फसाद का कोई अवसर नही

Read More »

चुनाव आया

*चुनाव आया* लगता चुनाव आया है ..जे हर बार मुँह लटकाये फिरता ,उसके पटिया पे चमकाव आया है,आगे-पीछे घूमी जो करे बड़बड़ ,नरेगा राशन कार्डकी चाव आया है ।लगता…..वाणी मे

Read More »
अनूदित जीवनी
nandlalmanitripathi

स्मारक

गांव में अमूमन शान्ति का माहौल था क्योकि गांव के खुराफातियों ठाकुर सतपाल की मृत्यु हो चुकी थी और लाला गजपति और पंडित महिमा दत्त का मन पसंद शोमारू गांव

Read More »
अनूदित कहानी
nandlalmanitripathi

सदबुद्धि यज्ञ

  लाला गजपति विल्लोर गाँव के संपन्न कायस्थ परिवार के मुखिया थे उनके परम् मित्र थे ठाकुर सतपाल सिंह और पंडित महिमा दत्त तीनो मित्रो के ही विचार गाँव में

Read More »
गीत
bmltwr

हे अन्नदाता

*हे अन्नदाता ! ,हे अन्नदाता !* हे अन्नदाता ! हे अन्नदाता !उठों जागों तुम्हें खेत बुलाताहल तुझसे पहलें जाग गएबैल खेतों को भाग गएजिससें तेरा जन्मों से नाताहे अन्नदाता !

Read More »

जीवन संग्राम

http://कृष्ण -अर्जुन संवाद प्रेरित मेरे द्वारा रचित #कविता ———-////————— #जीवन संग्राम के महासमर में, विजय का वरण तभी होगा, गिद्ध और सियारो से हटकर यदि सिंह दल गठन होगा ।

Read More »

मर्यादा पुरुषोत्तम राम

http://मर्यादा #पुरुषोत्तम श्री राम को समर्पित मेरी #कविता ——–////—————– #श्री राम तुम महान हो, समस्त जगत का कल्याण हो इतिहास नहीं वर्तमान हो, प्राणों का आह्वान हो राष्ट्र की गौरव

Read More »
गीत
nandlalmanitripathi

जिंदगी और सूरज

कहीँ जब सुर्ख सूरज निकलता हैजिंदगी दौड़ती है चाहतों के रफ्तार में।कहीँ जब शाम ढलती है जिंदगीठहर सी जाती है चाहतों के चाँदके इंतज़ार में।।इंसा हर लम्हे को जीता चाहतोंख्वाईसों

Read More »
बालगीत
sandeepk62643

चाँद से सवाल

चाँद से सवाल चंदा मामा हमारे घर भी आओ ना,मेरे संग बैठकर हलवा-पूड़ी खाओ ना । मुझे करनी हैं, तुमसे ढेर सारी बातें तुम्हें बुलाते-बुलाते गुज़र गई कई रातें ।

Read More »
ग़ज़ल
sandeepk62643

यूँ मायूस मत बैठो

यूँ मायूस मत बैठो । यूँमायूस मत बैठो, हँसों मुस्कुराओं दोस्तों ।ख़्वाब से निकलो हक़ीक़त में आओ दोस्तों ।। एक उम्र गुज़ार दी ज़माने वालों के काम देखते-देखते;अब बारी तुम्हारी

Read More »
नई कविता
worldsandeepmishra002

प्रेम महज ढ़ाई अक्षर का शब्द नहीं

प्रेम महज  ढ़ाई अक्षर का एक शब्द नहीं प्रेम में है समाहित भावना रुपी समुद्र ज्ञान रुपी नभ।। प्रेम महज  ढ़ाई अक्षर का एक शब्द नहीं प्रेम पूजा है प्रेम

Read More »

परिंदे जानते होंगे

आसमान छोटा हो गया है  परिंदों के ख़ातिर इंसानी दिमाग हो रहा है  धीरे-धीरे शातिर ज़मी पे अभी पाँव पूरी तरह रखे नहीं हैं  आसमां में आशियाँ बनाने में  होने

Read More »
काव्य धारा
hindijudwaan

मेरी कविता में तुझे पढ़ा जाना

  मेरी कविता में तुझे पढ़ा जाना   मेरी कविता में तुझे पढ़ा जानाछोटी सी बात नहीं हैजीवन का सार है उन शब्दों मेंजिनमें तेरी उमंग, तेरे साहस,तेरी सहनशीलता, तेरे

Read More »
खंडकाव्य
nandlalmanitripathi

सूरज और ब्रह्मांड

उदय सूरज का पूरब सेआशा विश्वास की मुस्कान लिए।।रौशन करता त्रिभुवन को खुशियों का भान लिए।।अस्ताचल पश्चिम में सागर की गहराई आसमान का अभिमान लिए।।अस्ताचल कहते सूरज आऊँगा मैं घने

Read More »
खंडकाव्य
nandlalmanitripathi

सूरज और ब्रह्मांड

उदय सूरज का पूरब सेआशा विश्वास की मुस्कान लिए।।रौशन करता त्रिभुवन को खुशियों का भान लिए।।अस्ताचल पश्चिम में सागर की गहराई आसमान का अभिमान लिए।।अस्ताचल कहते सूरज आऊँगा मैं घने

Read More »
नई कविता
nandlalmanitripathi

युग का प्रथम आराध्य सूरज

अवसान दिवस का सूर्योदय कापरिणाम प्रवाह नए सुबह आनेकी जागृत करता भाव भावना ।।आएगा सूरज नए काल कलेवर मेंजीव जगत की खुशियाँ उमंग उत्साहमंजिल मकसद की शक्ति का भानविश्वास संभावना

Read More »
काव्यात्मक व्यंग्य
nandlalmanitripathi

चौरी चौरा आजादी के संघर्ष की पृष्ठ भूमि एव परिणाम

दंश दासता से घायलभारत का जन जन था।।मन में आज़ादी कीचिंगारी ज्वाला अंगारलिये व्यथित भारत वासी था।।सन सत्तावन की क्रांति केक्रूर कुटिल दमन सेआहत भारतवासी दंश दासता दमन सेअपनी शक्ति

Read More »
काव्य धारा
nandlalmanitripathi

आज वर्त्तमान और चौरी चौरा

चौरी चौरा आज अपनेअतीत पर गर्वित आह्लादित पूरुखों नेमाँ भारती की आज़ादी केमहायज्ञ मेंअपने प्राणों की आहुति देकर शौर्य पराक्रम कीराह दिखाई।।उत्तर प्रदेश पूर्वांचल गोरखपुर जनपद काकस्बा भारत का गौरवशालीपड़ाव

Read More »
काव्य धारा
nandlalmanitripathi

चौरी चौरा आज़दी के संघर्ष के बाद का परिपेक्ष्य

बारह फरवरी सन उन्नीससौ बाईस को चौरी चौराआजादी का विद्रोह असयोग आंदोलनस्थगतित किया महात्मा गांधी।।महात्मा का निर्णय असहयोग आंदोलनसत्य अहिंशा और हिंसा दर्शन चौरी चौरा अहिंसाआंदोलनहिंसा परिवर्तन का परिभाषी।।महात्मा के

Read More »
काव्य धारा
nandlalmanitripathi

चौरी चौरा भारत की आजादी का पड़ाव कारण

सन उन्नीस सौ बाईस चार फरवरीशांत प्रिय भारतवासी।।निकल पड़े जुलूस में मन मे आजादी का जज्बादेने आजादी की खातिरकोई भी कुर्बानी।।सर पे टोपी जुबान पेजय माँ भारती की आजादीशांत प्रदर्शन

Read More »

प्रेम

प्रेम  ​​​​​​​​     ​डा. रतन कुमारी वर्मा प्रेम की सरिता बहाते चलो, गले से गले मिलाते चलो। प्रेम-सुधा रस बरसाते चलो, जाति-पाति, वर्ग-भेद मिटाते चलो। प्रेम की ऊर्जा जगाते

Read More »
नई कविता
nandlalmanitripathi

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस प्रतियोगिता बेटी का अभ्युदय नारी का अस्तित्व

आज की बेटी कल की नारीयुग की आधी शक्ति आधीआबादी माँ बहन बेटी नारी की शान।।शक्ति है नारी साक्षात नव दुर्गा अवतारी बेटी ही नारीना झुकती ना टूटती ना मानतीहार।।राष्ट्र

Read More »
नई कविता
nandlalmanitripathi

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस प्रतियोगिता नैतिकता और नारी

घृणा घमंड का उत्पातअनैतिकता अत्याचार कीबोझिल नारी ।।युग मानवता परम् शक्तिसत्ता पर भारी नारी।।दहेज का दानव होया वहसी का व्यभिचारया कोख की शोक युगमानवता नारी से हारी।।नारी का सम्मान प्रगतिशील

Read More »
नई कविता
nandlalmanitripathi

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस प्रतियोगिता नारी और समाज

नैतिकता का अभिमानपुरुषार्थ पराक्रम कीअर्थ आवाज़ ।।नारी कमजोर नहीपग प्रगति की शक्तिभाग्य काल भगवान कीअंतर शक्ति मान।।कोमल हृदय भावुक भावशांत शौम्य मधुर मार्मिककरुणा वात्सल्य प्यार दुलार।।कमसीन नादा नाजुक भोलीदिल दौलत

Read More »
काव्य धारा
mds.jmd

मुझे उस ओर जाना है

मुझे उस ओर जाना है मुझे उस ओर जाना है” कविता समस्त स्त्री वर्ग की जिजीविषा को उन्मुक्त वातावरण में जीने, खुलकर हँसने, अपने अरमानों को पूर्णता की ओर ले

Read More »
नई कविता
padma.pandyaram

वो पल

                                     वो  पल                                                             दिल के कोने में                                                              चुपके चुपके  झरोखों  से,                                                                हवा के साए आये                                                                कुछ गुनगुना गये,                                                               यादें नहीं जाती,                                                               गुजरे हुए पलों

Read More »