न्यू मीडिया में हिन्दी भाषा, साहित्य एवं शोध को समर्पित अव्यावसायिक अकादमिक अभिक्रम

डॉ. शैलेश शुक्ला

सुप्रसिद्ध कवि, न्यू मीडिया विशेषज्ञ एवं प्रधान संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

सृजन ऑस्ट्रेलिया | SRIJAN AUSTRALIA

6 मैपलटन वे, टारनेट, विक्टोरिया, ऑस्ट्रेलिया से प्रकाशित, विशेषज्ञों द्वारा समीक्षित, बहुविषयक अंतर्राष्ट्रीय ई-पत्रिका

A Multidisciplinary Peer Reviewed International E-Journal Published from 6 Mapleton Way, Tarneit, Victoria, Australia

डॉ. शैलेश शुक्ला

सुप्रसिद्ध कवि, न्यू मीडिया विशेषज्ञ एवं
प्रधान संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

श्रीमती पूनम चतुर्वेदी शुक्ला

सुप्रसिद्ध चित्रकार, समाजसेवी एवं
मुख्य संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

मोह

मोह़़़़़़़़़़़़सांसों से मोह कभी छूटता नहीं ,बंधनों में बंध कर भी दम घुटता नहीं!! शाम निराश तो करती है, पर सुबह की किरणें देख आस का धागा टूटता नहीं! तिरस्कार,

Read More »

मोह

मोह़़़़़़़़़़़़सांसों से मोह कभी छूटता नहीं ,बंधनों में बंध कर भी दम घुटता नहीं!! शाम निराश तो करती है, पर सुबह की किरणें देख आस का धागा टूटता नहीं! तिरस्कार,

Read More »
खंडकाव्य
nandlalmanitripathi

सूर्य और देव

पवन पुत्र शिष्य पुत्र शनिदुःख भय भंजक न्याय दंडके दाता सारे सूरज संगभाग्य दुर्भाग्य के दाता।।धर्म शास्त्रों में देवता विज्ञान वैज्ञानिक कीशोध कल्पना परिकल्पनाअविनि परिक्रमा करतीदिवस माह वर्ष युग कालकी

Read More »
खंडकाव्य
nandlalmanitripathi

सूर्य और सत्य

युग के हर प्राणी की निद्राशौर्य सूर्य के सुबह शाम कीप्रतिद्वंनि आकर्षक ।।नई सुबह आशा विश्वाशसंबाद संचार गति चाल कालसूरज का युग ब्रह्मांड व्यवहारना जाने कितने ही है पर्याय नाम।।सूरज

Read More »
खंडकाव्य
nandlalmanitripathi

सूर्य और जीवन

ना कोई लाचारी ना कोईदुःख व्याधि कायनात मेंखुशियों खुशबू का हर मनआँगन घर आँगन से नाताशौर्य सूर्य कहलाता।।युग मे नित्य निरंतर कालकी गति अविराम काल कदाचितसूरज  गति का सापेक्ष कालनिरन्तर

Read More »
खंडकाव्य
nandlalmanitripathi

सूर्य और संसार

ब्रह्म मुहूर्त की बेला मेंमंदिर में घन्टे घड़ियालेबजते गुरु बानी सबदकीर्तन गुरुद्वारों मेंमस्जिदों में आजाने होती।।सबकी उम्मीदे चाहतनई सुबह के आने वाले सूरज से होती।।आएगा अपनी किरणोंसंग सृष्टि की दृष्टी

Read More »
काव्य धारा
mds.jmd

प्रेम परक कविता – प्रिय छवि

प्रिय छवि  कवि अपने नैसर्गिक वितान में अपना प्रिय ढूंढता है उसी में कवि की खुशियाँ व काव्य-धारा के शब्द की महक बिखरती हैं। मेरे इसी नैसर्गिक प्रियतम जहाँ ऊपर

Read More »

नंगे पाँव

आजकल शहरों में लोग  नंगे पाँव नहीं चलते  कुछ तो घर में भी  नंगे पाँव नहीं रहते  बिस्तर से उठने से लेकर  खाने की टेबल तक  पाँव ज़मीन को नहीं

Read More »

एक पागल भिखारी

  जब बुढ़ापे में अकेला ही रहना है तो औलाद क्यों पैदा करें उन्हें क्यों काबिल बनाएं जो हमें बुढ़ापे में दर-दर के ठोकरें खाने के लिए छोड़ दे ।

Read More »

उम्मीद

अधमरी सी उम्मीदें कभी सो न सकी इंतज़ार मेंबिलख- बिलख कर रोया है मन साथी तेरे प्यार में दूर से ही तो चाहा था तुमको बस पास तुम्हारे ये दिल

Read More »
अनूदित कविता
abhac2610

और इंतजार

  यह तेरी आंखों का जादूकुछ इस तरह कर गया है असरसिर्फ तेरे सिवा दुनिया मेंनहीं आता कुछ नजर ना जाने किस वजह सेमेरी मोहब्बत को कर रही इनकारदिल मेरा

Read More »
काव्य धारा
mds.jmd

कहो, कौन हो तुम?

कहो तुम कौन हो प्रकृति ही मेरी संगिनी है, मेरे अह्सास है, मेरी कलम के शब्द हैैं अतः उसी प्रकृति के आँचल में मेरी काव्य धारा प्रवाहित होती है। प्रकृति

Read More »

नन्ही सी जान

  नन्हीं सी जान उड़े बनके पुरवाईसपनों के देश में जहां बसे परि रानीचाँद तारों संग खेले छुपन छुपाईअपनी ही मस्ती में रहे गुड़िया रानीजादुई हँसी से अपनी करे दुनिया

Read More »
नई कविता
nandlalmanitripathi

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस प्रतियोगिता वर्तमान की खुशहाल बेटी भविष्य की सक्षम नारी

बेटी की किलकारी मन आँगन घर आँगन कीखुशियों का प्यार परिवार।।पढ़ती बेटी बढ़ती बेटीउम्मीदों की नारी का आशीर्वादसंसार।।कली किसलय फूलगुलशन की चमन बाहरखुशी खास खासियत खुशबूमुस्कान।।बेटी आवारा भौरों केपुरुष प्रधान

Read More »
नई कविता
nandlalmanitripathi

कर्म बोध की कन्या नारी अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस काव्य प्रतियोगिता

कर्म बोध की कन्यादुष्ट दमन की दुर्गाब्रह्म ब्रह्मांड।।कर्म धर्म की संस्कृतियुग समाज राष्ट्र विश्वसमाज की संस्कृतिसंस्कार सत्यार्थ प्रकाश।।भाग्य भविष्य की प्रेरणानैतिक नैतिकता रिश्तों काआधार।।पुषार्थ प्रेरणा की गहना बहनाउत्कर्ष उत्थान की

Read More »
नई कविता
nandlalmanitripathi

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस प्रतियोगिता नारी और मर्यादा

मर्यादाओं महत्व काकरना है समाज विश्वराष्ट्र निर्माण।।साहस शक्ति की नारीविश्व समाज राष्ट्र काअभिमान।।बेटी हो नाजों कीखुले पंख अंदाज़ों कीसमाज विश्व राष्ट्र चेतना कीजागृती जांबाज़ इरादों कीनाज़।।जननी है शौर्य पराक्रम कीतारणी

Read More »

प्रेम काव्य लेखन प्रतियोगिता (प्रेम आज-कल)

प्रेम!आजकल प्रभावित है…उपभोक्तावादी बाजारी संस्कृतिऔर फिल्मी देह बाजारी से।फलिभूत कर्ज और उधारी से।रोज नए फूल खिलते,तन से तन मिलते,कौड़ियों के भाव परअवसरवादी स्थापित-विस्थापितभावनात्मक जुड़ाव है।मादा की क्षणिक काया,नर के पाकेट

Read More »

महिला दिवस काव्य प्रतियोगिता ( स्त्रीत्व)

डर कर,थक,ऊब करवह प्रत्येक स्त्री!जो आत्महत्या करके मर गई;कमल और कुमुदिनी थी। और जो जिंदा रह गईफिक्र में घर-गृहस्थी,बाल-बच्चों के। वह औरत मुझे,पोखर की हेहर/थेथर(नहर, तालाब के किनारेउगने वाले हरे

Read More »

कामना

मेरी हार्दिक इच्छा है कि लोग भूल जाएंँ,पपड़ियों की तरह उधड़ते,पंखुड़ियों की बिखरते,उद्वेलित नश्वरता की क्षणभंगुरता में झड़ता मेरा चेहराऔर रूप-रंग!पर सदियों तकउनके मन-मस्तिष्क में,मेरे शब्द और कविताएँकुछ इस तरह

Read More »
गीत
anuradha.keshavamurthy

जय भारती

  जय भारती   जय हो आज दिन है भारत के गणतंत्र. रह पाए हैं हम, अब सर्व-स्वतंत्र, लहराकर आज अपना तिरंगा प्यारे, रहे सदा पुलकित भारतवासी न्यारे।   जलाकर

Read More »

बेटी

बिटियाँ रूप तुम्हारा रानी बेटी लगता है प्यारा-प्याराघर की रौनक तुम सबकी आँखों का तारा। श्वेत लाल रंगों की फ्रॉक जैसे लटके बलूनछोटे-छोटे पैर तुम्हारे लगें मुलायम प्रसून। उस पर

Read More »
ग़ज़ल
ddeep935

ए भारत माँ…..

            ए भारत माँ फिर से एक एहसान कर दे वही सोने की चिड़िया वाला मेरा हिंदूस्तान कर दे,            

Read More »
नई कविता
sarlasingh55

सैनिक

सैनिक देश के रक्षक देश की शान ,है अपने ये सैनिक महान ।इनके बल पर अपनी चैन,इनके ही भरोसे है दिन रैन ।कोई कितना ऊँचा होजाये ,इनतक कोई पहुँच न

Read More »
नई कविता
sarlasingh55

गणतंत्र दिवस

*गणतंत्र दिवस मनायें* गणतंत्र दिवस मनायें,ये गणराज्य मुस्कुराये।पावन धरा ये है हमारी,इसको और जगमगायें।नदियां गाती कल-कल,चलो निर्मल इसे बनायें।पर्वत कहते सिर उठाके,सबसे ऊंचा इसे बनायें।नवजागरण लेकर चलें,हमारा  देश जगमगाये।गणतंत्र दिवस

Read More »
आलेख
hisarsushil

गणतंत्र दिवस पर स्वर्णिम अध्याय लिखने की तैयारी में शांति-संयम का गठजोड़…

सुशील कुमार ‘नवीन’ ‘एको अहं, द्वितीयो नास्ति, न भूतो न भविष्यति!’ अर्थात् एक मैं ही हूं दूसरा सब मिथ्या है। न मेरे जैसा कभी कोई आया न आ सकेगा। आप

Read More »
काव्य धारा
bhargavahari22

गणतंत्र दिवस पर सभी देशवासियों समर्पित “मेरा भारत”

मेरा भारत सब देशों से न्यारा भारत सबसे प्यारा हमारा भारतजन्म लिया देवों ने भारत मेंइतना मनमोहक सुंदर हमारा भारत विविधता में एकता की पहचान यही है मेरे भारत की

Read More »
नई कविता
nandlalmanitripathi

बेटी बिटिया

बेटी है दुनियां का नाजबेटी करती हर काज आजबेटी अरमानों का अवनिआकाश।। शिक्षित बेटी नैतिक समाजबेटी संरक्षण संरक्षित समाजबेटी बुढापे का सहाराबेटी माँ बाप के लिये ज्यादा संवेदन साज।। बेटी

Read More »
नई कविता
nandlalmanitripathi

सवा लाख से एक लड़ाऊं तौ गुरु गोविंद सिंह नाम कहाऊँ

आहत होता युग संसयअन्धकार के अंधेरो मेंदम  घुटता।।न्याय धर्म की सत्ता डगमग होताईश्वर का न्याय भरोसा युग जीवन में आशा कासंचार झोंका आता जाता।।निर्जीव हो चुके सोते युग समाजचेतना को

Read More »
नई कविता
archanaroy20

बेटियां केवल भाव की भूखी होती हैं

बेटियां केवल भाव की भूखी होती हैं! उन्हें कहां धन दौलत की होती है परवाहउनके लिए ये सब सूखी रूखी होती हैं,वो तो बस अपनों की हिफाजत चाहे बेटियां सिर्फ

Read More »
नई कविता
nandlalmanitripathi

सती शंकर भारतीय नाग संतो का बलिदान

कौन कहता है माँ भारती केसत्य सनातन का साधु संतधर्म कर्म साधना आराधना शास्त्रआचरण का सिर्फ प्रवचन सुनाते।।जब- जब राष्ट्र समाज पर क्रुरता आक्रांता आता।। जागृत हो साधु संतों का

Read More »

नारी हूँ मैं…

महिला दिवस प्रतियोगिता हेतु कविता “नारी हूँ मैं…”  एक मूक अभिव्यक्ति हूं मैं,खुद में सम्पूर्ण शक्ति हूं मैं,विश्वास का दूसरा नाम हूं,चलती-फिरती भक्ति हूं मैं…हां,नारी हूं मैं… स्रष्टा हूँ मैं,

Read More »
काव्य धारा
bhargavahari22

राष्ट्रीय बालिका दिवस पर समर्पित कविता – “बेटी”

बेटी मैं भी बेटी हूँ किसी की हर बेटी का सम्मान करती हूँबेटी है स्वाभिमान किसी काजो जाकर पराये घर,उस घर को, परिवार कोो अपनाती है जन्म देती, जीवन को,संस्कारों कोधन-धान्य

Read More »
काव्य धारा
mds.jmd

राष्ट्रीय बालिका दिवस पर समर्पित कविता – “बेटी”

बेटी बेटी है घर की फुलवारीबेटी है माँ पिता की दुलारी महके घर का कोना कोना वह घर स्वर्ग जहाँ बेटी का होना बेटियाँ घर को महकाती है सुन्दर गुलशन

Read More »
काव्य धारा
hetrambhargav

राष्ट्रीय बालिका दिवस पर समर्पित कविता – “कहो मुझे भगवान”

कहो मुझे भगवान जब जन्मीं ममता के आँचलहँसकर माँ ने गले लगाया सबने बता कर भार घर का खुशियों से मुझको ठुकराया तूं ही बता मेरी जग में, है कैसी

Read More »
काव्य धारा
hindijudwaan

राष्ट्रीय बालिका दिवस पर समर्पित कविता – “शिक्षित बेटी”

शिक्षित बेटी मैं बेटी, पत्नी और माँ बनआज बनी सशक्त नारी हूँ एक जीत की कोशिश में हजारों बार बार मैं हारी हूँ संघर्ष मेरे बचपन के याद जब –

Read More »

मृत्यु

जन्म और मृत्यु,जीवन के दो छोरएक है प्रारंभ तो दूजा अंतइस मध्य ही है जीवन का सार। क्या खोया क्या पायाक्या छोड़ा क्या अपनायाक्या भोगा क्या त्याग दियाबस यही है

Read More »

सोचता हुँ

सोचता हुँ,सभी की भलाईसब हो खुशहालना हो कोई बदहाल। सब करे प्रगतिसब करे उन्नतिसबको मिले अधिकारफले फुले सबका परिवार। ना किसी से ईर्ष्या है ना ही प्रतियोगिताना किसी से अपेक्षा

Read More »

एक दिया वहाँ भी जलाए

  लो आ गयी दीवाली का त्योहारउल्लास और उमंग का लिए संचारकरती धन और समृद्धि का फुहार। हां इस बार थोड़ी  परिस्थिति की है मारप्रकृति ने जता दी अपनी गुस्सा

Read More »

मकर संक्रांति

आज है मकर संक्रान्ति सूर्य देव हुए उत्तरायणलेकर गुनगुनी धूप और ऋतु परिवर्तन की तरंग। वसुधा ने फैलाई प्यारी मुस्कानओढ़ सुरमई बासंती परिधानलिए सरसो की भीनी भीनी सुगंधलिए लोहड़ी, पोंगल

Read More »

नव वर्ष

जो बीत गया उसे भूल जायेजो आ रहा  उसे अपनायेहालांकि जाते जाते बहुत रूलायाकईयों को अपनो से बिछड़ायादुख तकलीफ की बढ़ाई छाया। पर,जीना भी वो सिखलायाएकता और भाईचारा बढ़ायासंयम और

Read More »

पगला

हाँ वो पगला हैलोग तो उसे यही कहते हैऔर समझते भी यही है। एक दिन मैं चल रहा था कुछ गुनते अचानक से मिल गया मुझे वह राह चलतेवह मुझे

Read More »

उबंटू

उबंटू,सच मे थोड़ा अजीब सा शब्द हैमन मे सवाल उठा कि ये क्या हैजिज्ञासा उठी कि इसका मतलब क्या होता है। मन में उठी जिज्ञासा को शांत करनेउस अनूठे शब्द

Read More »
शोध पत्र हेतु दिशा निर्देश
sukhbirduhantosham

वर्तमान परिप्रेक्ष्य में यौगिक क्रियाओं का स्वस्थ जीवन शैली में योगदान

http://परिचय : वैज्ञानिक प्रौद्योगिकी के इस आधुनिक समय मे हमने भले ही कितनी तरक्की कर ली हो तथा व्यक्ति के पास भले ही जीवन यापन की सभी भौतिक सुख सुविधाएं

Read More »
नई कविता
ddeep935

आ अब लौट चलें

                     ” आ अब लौट चलें”             ————————– हैं चारों ओर वीरानियाँखामोशियाँ, तन्हाईयाँ,परेशानियाँ, रुसवाईयाँसब ओर ग़ुबार है

Read More »

नश्वरता

अस्ताचलगामी सूर्य के अवसान पर,मध्य में जीवन की प्रवाहमान सरिता शान्त स्तंभित!मूकदर्शक मैंने देखा,उसका म्लान मुख अचंभित!एक तरफ उन्मादी हुल्लड़बाज भीड़ थी,भ्रमवश वासनामय अमरता की उत्तेजना में।और नदी के दूसरे

Read More »
काव्य धारा
srseossoda

अनुभूति

||अनुभूति || प्रेम एक ऐसी अनुभूति है जो दिलों की गहराइयों में बसती है व्यक्तित्व से प्रेम करती है प्रेम की अनुभूति को क़ायम रखने के लिएउम्र-आकर्षणरूप-रंगस्त्री-पुरुषदौलत- शोहरत मज़हब-मुल्क आदि

Read More »

“मेरे भी सपने हैं “

“मेरे भी सपने हैं”नारी हूं मैं वस्तु नहीं मेरे भी सपने हैं।जननी हूं मैं सृष्टि कीनवजीवन मुझसे पाता।केवल जननी नहीं मात्रमैं भी हूं जग की ज्ञाता।शक्ति तुझको मिली अधिकबांधा जिसने

Read More »

महिला दिवस पर प्रतियोगिता हेतु रचना, “शक्ति स्वरूपा “

 “शक्ति_स्वरूपा” हे -नारी तू ही है नारायणी और तू ही है शक्ति स्वरूपा जीती है तू दो -दो रूपों को लेकर जन्म नारी रूप में इस पावन वसुधा पर हे

Read More »

भारत मां का यौवन

भारत मां का यौवन भारत मां के यौवन को न छेड़ों ,ये मुश्किल से संवरा है ।श्रृंगार झलकता है, स्त्री से कलित,इसके क्षोभ से सुरक्षित रहो न ।।     

Read More »
दोहे
bhavanasharma30

दोहे

  दोहे अन्न वस्त्र भी चाहिये,      थोड़ी बहुत जमीन ।   समाधान खोजें सभी,      किस पर करें यकीन ।।    कृषक देश की आन है,    कृषक

Read More »

संघर्ष : संघर्षविराम ( भाग ७ )

संघर्षविराम…!!! दिन बीतते रहे। साल जाते रहे। अनगिनत समस्याएं आयीं , परंतु राधेश्याम के संकल्पों और दृढ़ इच्छाशक्ति के सम्मुख उन कठिनाइयों को परास्त होना पड़ा। शिक्षा के क्षेत्र में

Read More »

संघर्ष : परवरिश ( भाग ६ )

परवरिश…!!! हेलीकॉप्टर की गड़ गड़ गड़ गड़ करती आवाज़ से सारा आसमान गूंज रहा था। रोहन “पापा…पापा…” चिल्लाते हुए छत की ओर भागा। किसी काम में व्यस्त राधेश्याम भी दौड़ता

Read More »

संघर्ष : संकल्प (भाग ५)

संकल्प…!!! रात के अंधेरे में उम्मीद की कोई रोशनी अगर दिखाई ना दे…तो अंधेरे की कालिमा और बढ़ जाती है। सामान्य सी रात भी अमावस की रात का रूप ले

Read More »

संघर्ष : जीवनसाथी ( भाग ४ )

जीवनसाथी….!!! “जीवनसाथी”…!!! ये शब्द सुनते ही मन में सर्वप्रथम “पत्नी” शब्द की आवृत्ति अवश्य होती है। लेकिन मेरे विचार से पत्नी, जो ये शब्द है…थोड़ा संकुचित भावार्थ से पूर्ण है।

Read More »

संघर्ष : पुरस्कार…! ( भाग २)

पुरस्कार…!!! सुबह सुबह राधेश्याम अखबार बांट कर घर पहुंचा ही था… कि रोहन स्कूल ना जाने की जिद्द लिए बैठा था। और जिद्द इतनी की वो रोने लगा कि वो

Read More »

संघर्ष : अखबार वाला ( भाग १ )

अख़बार वाला…!!! दसवीं की परीक्षा के परिणाम का दिन था आज। राधेश्याम सुबह सुबह करीब तीन बजे ही उठ गया। “अरे…इतनी सुबह सुबह ही उठ गए…क्या हुआ..?? आज जल्दी जाना

Read More »

चाय भाग ३ : चाय की तासीर…!!

चाय की तासीर…!!! चाय के दीवानों का भी क्या कहना है। गर्म से गर्म चाय की तासीर को भी वे ठंडी ही बताते हैं। ठंडी हो चुकी चाय में कोई

Read More »

चाय भाग २ : दो चम्मच शक्कर…!!!

दो चम्मच शक्कर…!!! “प्रीती….चाय बन गई है…आ जाओ जल्दी से।” मानसी ने शाम होते ही आवाज़ लगा दी। मानसी और प्रीती को मानों रोज़ ऐसी ही आवाज़ सुनने की आदत

Read More »

चाय भाग १ : परिचय….!!!

परिचय…!!! चाय…! प्रथम दृष्टया ये शब्द सुनते ही किसी देश भक्त को  तो यही लगता होगा… कि अंग्रेजियत का ये फॉर्मूला आज हम भारतीय अपने मत्थे लिए ढो रहे हैं।

Read More »

प्रतिशोध भाग ४ : अवसान…!!!

अवसान….!!! अंधेरे का रंग ज्यादा गाढ़ा और गहरा होता है। कुविचारों का प्रभाव भी सुविचारों पर जल्दी ही होने लगता है। अविनाश के मन की नकारात्मकता भी उस पर पूरी

Read More »

प्रतिशोध भाग ३ : पश्चाताप…!!!

पश्चाताप….!!! इच्छित कार्य पूर्ण ना हो तो व्यक्ति कितना भी मजबूत क्यूं ना हो…एक आघात सा अवश्य लगता है। सुमन भी आजकल ऐसे ही दौर से गुज़र रही थी। सुमन

Read More »

प्रतिशोध भाग २ : अपराध बोध…!!

अपराध बोध…!!! अपमान के बादल आसानी से नहीं छटते। रोज़ यादों की ऐसी मूसलाधार बारिश करते हैं कि एक एक दिन गुजारना मुश्किल हो जाता है। अविनाश को भी लखनऊ

Read More »

प्रतिशोध भाग १ : प्रणय निवेदन…!!

प्रणय निवेदन….!!! शाम का समय। सूर्य क्षितिज पर उतरने को था। सुमन अपने छत के एक कोने में खड़ी मुस्कुराए जा रही थी। रोज़ सूर्य की लाली के सामने खड़े

Read More »

जमीन…!

गोधुलि बेला का वक़्त। आकाश की लालिमा किसी अशुभ घटना का संकेत लिए हुए रात्रि के अंधेरे में डूबने को व्याकुल हो रही थी। एक वृद्धा अपने पति के सिरहाने

Read More »

A Rainy Day With a Beautiful Girl…!!

सुबह के नौ बजे थे। मैं तैयार था स्कूल जाने को। आंगन में किसी के पायल की आवाज़ एक मधुर गीत का संचार कर रही थी। मेरी उत्सुकता ने बाहर

Read More »

बरसात की एक रात…!!!

ये बात है १२ जुलाई २०१७ की। ऋषभ अभी अभी अपने ऑफिस से घर पहुंचा ही था। रात के करीब आठ बज रहे थे। बारिश की हल्की हल्की फुहारें पड़

Read More »

आराध्या…एक प्रेम कहानी…!

आराध्या : एक प्रेम कहानी…!!! जीवन में किसी से पहली बार मुलाकात हो..ये संयोग हो सकता है। लेकिन उस “किसी” से ही दुबारा मुलाकात हो जाए…और मुलाकात ऐसी कि रोज़

Read More »

बाबू साहब..!!!

एक कहानी : बाबू साहब…!!! तपस्या, संकल्प सिद्ध करने का एक मात्र सर्वमान्य रास्ता है…मेरे विचार से। लेकिन एक वक़्त होता है…जब विमुखता आ जाती है…कर्तव्य मार्ग से, तप भाव

Read More »

कैसे प्रिय पर अधिकार करूं…??

रचना शीर्षक :” कैसे प्रिय पर अधिकार करूं : एक अन्तर्द्वन्द “________________________________________ तुम प्रेम गीत का राग चुनो,मैं कर्कश ध्वनि विस्तार करूं,प्रणय मिलन कैसे हो फिर,कैसे प्रिय पर अधिकार करूं…!

Read More »

हे मेघ…हृदय के भाव सुनो…!!!

हे मेघ…! हृदय के भाव सुनो…!!_________________________निर्जन वन के पुनर्सृजन को,हे मेघ…! घुमड़ के आ जाओ,मन की दुर्बलता पर सघन वृष्टि,बादल बन कर तुम छा जाओ…! विश्वास विकल दुर्बल हृदय,इस एकांत

Read More »

तुम सरल जरा बन कर देखो…!!!

जीवन पथ यदि कठिन लगे,तुम सरल ज़रा बन कर देखो,रस सुधा मात्र की होड़ मची,तुम गरल ज़रा बन कर देखो। क्षुधा नहीं मिट सकती,धन लोलुपता की आसानी से,सघन कपट के

Read More »

निः स्वार्थ प्रेम…!!!

मन की दीवारों के भीतर,मौन धरे वो कौन पड़ा..?अहम और निःस्वार्थ प्रेम में,हर क्षण सोचे है कौन बड़ा..?? निःस्वार्थ प्रेम की परिभाषा में,अहंकार का मान नहीं,फिर सबल रूप लेकर इस

Read More »

संवाद होना चाहिए…!!

रिश्तों की डोर में,हो तनाव जब ज्यादा,टूटने को आतुर,और खिचाव हो ज्यादा, बादलों का क्षितिज पर,इक झुकाव होना चाहिए…!तोड़ कर खामोशियां,संवाद होना चाहिए…!!तोड़ कर खामोशियां,संवाद होना चाहिए…!! अहम का वर्चस्व

Read More »

निर्भया…! तुझे जीना होगा…!!!

निर्भया..! तुझे जीना होगा…!हैं घूंट भले कड़वे इस जग के,घूंट घूट कर के ही पीना होगा,निर्भया..! तुझे जीना होगा…! है मिला कहां इंसाफ तुझे,तू तो अब भी बस शोषित है,जो

Read More »

पिता…!!!

पिता…!!! विघ्न चुन लिए सभी,पथ सुपथ भी कर दिया,कठिनाइयों की चादरों को,खुद वरण ही कर लिया…! स्वयं को अभाव दे,हमें संवारते रहे,खुद के मन को मारकर,हमें जीवंत कर दिया…! विलाप

Read More »

संबंधों में अपनापन हो…!!!

शीर्षक : “संबंधों में अपनापन हो” रिश्तों के उपवन में जब,मधुर पुष्प का सूनापन हो,प्रेम वृक्ष का अवरोपड़ हो,और संबंधों में अपनापन हो…! धन कुबेर की चाह लिए,सब व्याकुल मन

Read More »

अधूरा प्रेम.!!

अधूरा प्रेम…!!! बंजर मन के इस उपवन को,मैं सींच सींच कर हार गया…!उत्साह प्रेम जो हृदय बसा,थक कर अब वो भी हार गया…!! मेरे जीवन की, हर एक घड़ी,तब व्याकुल

Read More »

चलते रहना ही जीवन है…!

शीर्षक : “चलते रहना ही जीवन है” देख हिमालय सी कठिनाई,क्यूं राहों का परित्याग किया,अथक परिश्रम करते करते,बढ़ते रहना ही जीवन है…!चलते रहना ही जीवन है…!! ठहराव अगर जल में

Read More »

बस यूं ही…!

देखो ढल गया है दिन…और शायद तुम भी…मेरे जीवन में…! पर इक आस तो बाकी है…शायद…फिर से निकले ये सूरज,शायद…फिर से हो इक सवेरा,मेरे जीवन में…! देखो…ढल गया है दिन….ठीक

Read More »

सुमन शूल में श्रेष्ठ कौन…??

कैसा स्वभाव है मानव का,सब चाह करे बस फूलों की…!शाखों का मान करे कोई क्यूं,अस्तित्व भला क्या शूलों की…!! सोचो बिन शाखों कांटों के,ये सुमन भला कैसे जीते…!मन के अंदर

Read More »

सवाल…!!!

आज फिर तेरा खयाल आया,बेवजह मन में इक सवाल आया…! कल साथ थे जो गर,अब दूर कैसे हो…?है इश्क़ गर मुझसे,मजबूर कैसे हो…?तेरी आवाज़ की गूंजें,मेरे संगीत की सरगम,मुझे तन्हाइयां

Read More »

बचपन…!!!

जब अभाव के सागर में,संघर्ष पिता का अथक रहा,खुद के सुख से हर क्षण उनका,जीवन जैसे हो पृथक रहा,मैं हठ के भाव से प्रेरित तब,कैसे खुद से अब न्याय करूं?कैसे

Read More »

स्मृति अब अवशेष नहीं…!!!

स्मृति अब अवशेष नहीं,स्मृति अब अवशेष नहीं…!!! सृजित हुई यादें तेरी,इक पल में भी इक काल सदृश,घोर शीत के ऋतु के मध्य,थी जैसे कोई शाल सदृश,मैं चकोर सा व्याकुल,मुख मंडल

Read More »

अशांत मन…!!

अशांत मन… मन का युद्ध स्वयं के मन से,जीत भला कैसे होगी…!विमुख हुए अपने वादों से.,प्रीत भला कैसे होगी…! मौन शब्द का अर्थ…अगर ना समझो तुम…हृदय मध्य का मर्म…अगर ना

Read More »

तब गांव हमें अपनाता है…!!!

रचना शीर्षक : “तब गांव हमें अपनाता है…!!!”__________________________________ ग्रामीण भाव की धारा में,जब शहर कोई बह जाता है,शहरी होने का दंभ हृदय से,मिट्टी सा बन रह जाता है, तब गांव

Read More »

तुम राम नहीं बन सकते तो…!!

निंदित कर्मों के बीच फंसे,सत्कर्मों के अभिराम बनो,तुम राम नहीं बन सकते तो,कण के इक भाग सा राम बनो। पर निंदा की तुम धारा में,बहते ही बहते जाओगे,कलुषित मन के

Read More »

जीवनसंगिनी…!!!

प्रीत की रीत कहूं तुमसे,दिल उनसे आज ये जुड़ बैठा,प्रीत की परछाई लेकर,मन उनको आज ले उड़ बैठा। फिर साथ मिला तेरा मुझको,जीवन में तुम मेरे आए,फेरों से वचन पिरोया

Read More »

मत हो कृतघ्न…!!!

वो तुच्छ समझता था जिसको…उसने ही उसका साथ दिया…वक़्त ज़रा बदला उसका…देखो कैसे अभिशाप दिया… जो ना दे कुछ वो दाता तो…अपमान भला यूं क्यूं करना…दुष्ट निकम्मों मक्कारों का…सम्मान भला

Read More »
काव्य धारा
samidhanaveenvarma

महिला दिवस काव्य प्रतियोगिता

सच्ची हितैषी हूँ तुम्हारी—————————-जानती हूँ मैं,और भीतर ही भीतर मानते हो तुम भी,कि सच्ची हितैषी हूँ तुम्हारी।पर व्यक्त करने का तरीका तुम्हारा, शायद अलग है । मैं पुरुष नहीं, बदल

Read More »

नशा

#नशा ये -धुआँ भी चीज अजीब है नशा इसका बेमिसाल है, जकड़ता है लोगों को गिरफ्त में धीरे -धीरे, ये -धुआँ भी चीज अजीब है | भूल जाते हैं लोग

Read More »

“महिला दिवस काव्य प्रतियोगिता” हेतु कविता।

बेटियाँ घर मेरे मौसम की, बहार आयी, घर मेरे  शबनम की, फुहार आयी, दे दिया तोहफ़ा, मुझे कुदरत ने, बागीचे में मेरे, एक कचनार आयी।   ओस सी नाज़ुक, मासूम

Read More »

“प्रेम काव्य लेखन प्रतियोगिता” हेतु कविता।

एहसास मन भावों को कैसे उकेरूं, शब्द नहीं हैं पास मेरे, कैसे गढ़ू मैं चित्र घनेरे, रंग नहीं हैं पास मेरे।   एहसासों के बादल बरसें, चढ़े रंग तेरे प्यार

Read More »
नई कविता
ddeep935

तुम लौट आओ

  शीर्षक -” तुम लौट आओ”                                            वो सुर्ख़ ग़ुलाब

Read More »

फूल-फूल पर !

     फूल-फूल पर ! फूल-फूल पर लिखी है बात,मनभावन सूरत उसके पास ।आया सावन बरसे बदरा,ओड़ कर आई काली चदरा ।।उड़ी फुहार भीगी कलियां,उड़ी सुगन्ध महके अंगना ।भौंरों का

Read More »

अपना कौन?

अपना कौन ?——————-आज ही 10 बजे से बी.एड का पेपर है और साथ में नन्हे-नन्हे दो बच्चे और बुआ जी ने घर छोड़ने का अल्टीमेटम दे दिया कि “अभी घर

Read More »