न्यू मीडिया में हिन्दी भाषा, साहित्य एवं शोध को समर्पित अव्यावसायिक अकादमिक अभिक्रम

डॉ. शैलेश शुक्ला

सुप्रसिद्ध कवि, न्यू मीडिया विशेषज्ञ एवं प्रधान संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

सृजन ऑस्ट्रेलिया | SRIJAN AUSTRALIA

6 मैपलटन वे, टारनेट, विक्टोरिया, ऑस्ट्रेलिया से प्रकाशित, विशेषज्ञों द्वारा समीक्षित, बहुविषयक अंतर्राष्ट्रीय ई-पत्रिका

A Multidisciplinary Peer Reviewed International E-Journal Published from 6 Mapleton Way, Tarneit, Victoria, Australia

डॉ. शैलेश शुक्ला

सुप्रसिद्ध कवि, न्यू मीडिया विशेषज्ञ एवं
प्रधान संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

श्रीमती पूनम चतुर्वेदी शुक्ला

सुप्रसिद्ध चित्रकार, समाजसेवी एवं
मुख्य संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

प्रेम-काव्य लेखन प्रतियोगिता

अंतरराष्ट्रीय “प्रेम-काव्य लेखन प्रतियोगिता”
विश्व हिंदी सचिवालय, मॉरीशस, न्यू मीडिया सृजन संसार ग्लोबल फाउंडेशन एवं सृजन ऑस्ट्रेलिया अंतरराष्ट्रीय ई- पत्रिका के संयुक्त तत्वावधान में वसंत उत्सव के अवसर पर आयोजित किए जाने वाले ‘अंतरराष्ट्रीय कवि सम्मेलन’ हेतु उत्कृष्ट रचनाओं के चयन हेतु “प्रेम-काव्य लेखन प्रतियोगिता” आयोजित की जा रही है।
उत्कृष्ट कविताओं के रचनाकारों को वसंत उत्सव के अवसर पर आयोजित किए जाने वाले ‘अंतरराष्ट्रीय कवि सम्मेलन’’ में काव्य पाठ का अवसर दिया जाएगा और सृजन ऑस्ट्रेलिया अंतरराष्ट्रीय ई-पत्रिका (https://srijanaustralia.srijansansar.com) में प्रकाशित किया जाएगा।
पर्याप्त संख्या में उत्कृष्ट रचनाएं प्राप्त होने पर उन्हें , न्यू मीडिया सृजन संसार ग्लोबल फाउंडेशन द्वारा आईएसबीएन युक्त पुस्तक के रूप में प्रकाशित किया जाएगा जिसकी पीडीएफ़ प्रति सभी सम्मिलित रचनाकारों को निशुल्क उपलब्ध कारवाई जाएगी। इसके साथ ही पुस्तक का समुचित प्रचार-प्रसार किया जाएग।
प्रतियोगिता हेतु (केवल https://srijanaustralia.srijansansar.com/साहित्यिक-रचनाएं-शोध-आले/ पर) कविताएं भेजने की अंतिम तिथि : 20 जनवरी 2021 है।

प्रतियोगिता के नियम और शर्तें :-

  1. विश्व के सभी देशों के रचनाकार इस प्रतियोगिता में भाग ले सकते हैं
  2. प्रतियोगिता हेतु भेजी जाने वाली कविताएं प्रेम केंद्रित विषयों पर होनी चाहिए।
  3. कविताएं यूनिकोड फॉन्ट में टाइप की हुई वर्ड फॉर्मैट में ही भेजें।
  4. कविता के अंत में रचनाकार का नाम, पदनाम, संगठन, पूरा डाक पता, ईमेल पता, मोबाईल नंबर और वट्स्ऐप नंबर अवश्य लिखें।
  5. प्रतियोगिता हेतु भेजी जाने वाली कविता मौलिक एवं स्वरचित हो एवं किसी भी तरह के कॉपीराइट मामले से स्वतंत्र हो।
  6. कविता में किसी भी धर्म / जाति / समूह / स्थान / प्रदेश / देश के लिए अपमानजनक या आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग निषेध है।
  7. एक से अधिक कविताएँ भी भेजी जा सकती हैं। यदि एक प्रतिभागी द्वारा एक से अधिक कविताएं भेजी जा रही हैं तो सभी कविताएं एक ही फाइल में भेजें। निर्णायकों द्वारा आपकी सिर्फ श्रेष्ठ कविता चुन कर प्रतियोगिता में शामिल की जाएगी।
  8. प्रतियोगिता के निर्णायक मण्डल का निर्णय अंतिम एवं सर्वमान्य होगा।
  9. पर्याप्त संख्या में गुणवत्ता पूर्ण रचनाएं प्राप्त न होने की स्थिति में प्रतियोगिता को रद्द किया जा सकता है। इस संबंध में प्रतियोगिता आयोजकों का निर्णय अंतिम एवं सर्वमान्य होगा।
  10. प्रतियोगिता के विजेताओं को उनकी कविता के साथ दिये गए मोबाईल नंबर / वट्स्ऐप नंबर पर सूचित किया जाएगा और साथ ही सृजन ऑस्ट्रेलिया अंतरराष्ट्रीय ई-पत्रिका के फ़ेसबुक पेज, टेलिग्राम चैनल एवं सभी वट्स्ऐप में साझा किया जाएगा।
  11. प्रतियोगिता हेतु काव्य रचनाएं केवल https://srijanaustralia.srijansansar.com/साहित्यिक-रचनाएं-शोध-आले/ पर ही स्वीकृत की जाएंगी। इस लिंक पर प्रतियोगिता हेतु कविता पोस्ट करने से पहले आपको अपना अकाउंट बनाना होगा जो कि 1-2 मिनट की आसान सी प्रक्रिया से बन जाएगा। प्रतियोगिता हेतु कविता पोस्ट करने के लिए विषय / टाइटल में “देशभक्ति-काव्य लेखन प्रतियोगिता” हेतु कविता – कविता का शीर्षक” अवश्य लिखें।
  12. प्रतियोगिता के निर्णय में 75% अंश निर्णायकों द्वारा दिये गए अंकों का एवं शेष 25% अंश https://srijanaustralia.srijansansar.com पर प्रकाशित की गई प्रतियोगी कविताओं पर प्राप्त टिप्पणियों का होगा।
    संपर्क : श्री मनोरंजन तिवारी, उप संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया अंतरराष्ट्रीय ई-पत्रिका +91 98990 18149
    (कृपया संपर्क करने हेतु अपना नाम, पदनाम, संगठन, शहर/जिला/कस्बा/ राज्य, देश और ई-मेल पता व्हाट्सऐप संदेश में भेजें)

Last Updated on January 5, 2021 by Manoranjan Kumar Tiwari

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn

More to explorer

दोहा त्रयी :….आहट 

Print 🖨 PDF 📄 eBook 📱 दोहा त्रयी :….आहट    हर आहट में आस है, हर आहट विश्वास।हर आहट की ओट में,

जीने से पहले ……

Print 🖨 PDF 📄 eBook 📱 जीने से पहले ……   मिट गईमेरी मोहब्बतख़्वाहिशों के पैरहन में हीजीने से पहले   जाने

दोहा त्रयी : वृद्ध

Print 🖨 PDF 📄 eBook 📱 दोहा त्रयी : वृद्ध चुटकी भर सम्मान को, तरस गए हैं वृद्ध । धन-दौलत को लालची,

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *