न्यू मीडिया में हिन्दी भाषा, साहित्य एवं शोध को समर्पित अव्यावसायिक अकादमिक अभिक्रम

डॉ. शैलेश शुक्ला

सुप्रसिद्ध कवि, न्यू मीडिया विशेषज्ञ एवं प्रधान संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

सृजन ऑस्ट्रेलिया | SRIJAN AUSTRALIA

6 मैपलटन वे, टारनेट, विक्टोरिया, ऑस्ट्रेलिया से प्रकाशित, विशेषज्ञों द्वारा समीक्षित, बहुविषयक अंतर्राष्ट्रीय ई-पत्रिका

A Multidisciplinary Peer Reviewed International E-Journal Published from 6 Mapleton Way, Tarneit, Victoria, Australia

डॉ. शैलेश शुक्ला

सुप्रसिद्ध कवि, न्यू मीडिया विशेषज्ञ एवं
प्रधान संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

श्रीमती पूनम चतुर्वेदी शुक्ला

सुप्रसिद्ध चित्रकार, समाजसेवी एवं
मुख्य संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

संपादन: रेखा रानी

image_pdfimage_print

मुद्दा तो ये राष्ट्रीय पहले से ही है, डर है कहीं जन आंदोलन न बन जाए..

सुशील कुमार ‘नवीन’ दिल्ली बॉर्डर पर हिमपात सी शीतलहर में लगातार डेरा जमाए बैठे किसानों से बड़ा वर्तमान में कोई राष्ट्रीय मुद्दा नहीं है। आंदोलन की शुरुआत से अब तक …

मुद्दा तो ये राष्ट्रीय पहले से ही है, डर है कहीं जन आंदोलन न बन जाए.. Read More »

अमूल्य त्रिपाठी की नई कविता – “तेरी मुहब्बत”

वो रातें मुझे पसंद है, वो बातें मुझे पसंद है, तेरी मुहब्बत की हर, यादें मुझे पसंद है। चाँदनी रातों में तेरा, खूबसूरत दमकता चेहरा, इन आँखों को बड़ा पसंद …

अमूल्य त्रिपाठी की नई कविता – “तेरी मुहब्बत” Read More »

woman, mysterious, traveler

प्रभांशु कुमार की नई कविता-मेरे अंदर का दूसरा आदमी

मेरे अंदर का दूसरा आदमी मेरा दूसरा रुप है, वर्तमान परिदृश्य  का सच्चा स्वरूप है। रात में सो रहा होता हूं उसी समय मेरे अंदर का दूसरा आदमी अस्पताल के …

प्रभांशु कुमार की नई कविता-मेरे अंदर का दूसरा आदमी Read More »

sunset, silhouette, landscape

पढ़िए डॉ० भावना कुंअर का यात्रा वृतांत- अफ्रीकन सफारी

हमारी रोमांचक यात्रा– अफ्रीकन सफ़ारी दुनिया भर में प्रसिद्ध है । काफी समय से हम लोगपरिवार सहित पूर्वी अफ्रीका के प्राकृतिक खूबसूरती से समृद्ध ‘युगांडा की राजधानी ‘कम्पाला ’ में रह …

पढ़िए डॉ० भावना कुंअर का यात्रा वृतांत- अफ्रीकन सफारी Read More »

प्रभांशु की नई कविता कूड़े वाला आदमी

वह आदमी निराश नही है अपनी जिन्दगी से जो सड़क किनारे कूड़े को उठाता हुआ अपनी प्यासी आंखो से कुछ दूढ़ता हुआ फिर सड़क पर चलते हंसते खिलखिलाते धूलउड़ाते लोगों …

प्रभांशु की नई कविता कूड़े वाला आदमी Read More »

बेशर्मी के लिए नशा बहुत जरूरी है जनाब…

सुशील कुमार ‘नवीन’ आप भी सोच रहे होंगे कि भला ये भी कोई बात है कि बेशर्मी के लिए नशा बहुत जरूरी है। क्या इसके बिना बेशर्म नहीं हुआ जा …

बेशर्मी के लिए नशा बहुत जरूरी है जनाब… Read More »

ड्रामेबाजी छोड़ें, मन से स्वीकारें हिंदी – सुशील कुमार ‘नवीन’

          रात से सोच रहा था कि आज क्या लिखूं। कंगना-रिया प्रकरण ‘ पानी के बुलबुले’ ज्यों अब शून्यता की ओर हैं। चीन विवाद ‘ जो …

ड्रामेबाजी छोड़ें, मन से स्वीकारें हिंदी – सुशील कुमार ‘नवीन’ Read More »

error: Content is protected !!