न्यू मीडिया में हिन्दी भाषा, साहित्य एवं शोध को समर्पित अव्यावसायिक अकादमिक अभिक्रम

डॉ. शैलेश शुक्ला

सुप्रसिद्ध कवि, न्यू मीडिया विशेषज्ञ एवं प्रधान संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

सृजन ऑस्ट्रेलिया | SRIJAN AUSTRALIA

6 मैपलटन वे, टारनेट, विक्टोरिया, ऑस्ट्रेलिया से प्रकाशित, विशेषज्ञों द्वारा समीक्षित, बहुविषयक अंतर्राष्ट्रीय ई-पत्रिका

A Multidisciplinary Peer Reviewed International E-Journal Published from 6 Mapleton Way, Tarneit, Victoria, Australia

डॉ. शैलेश शुक्ला

सुप्रसिद्ध कवि, न्यू मीडिया विशेषज्ञ एवं
प्रधान संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

श्रीमती पूनम चतुर्वेदी शुक्ला

सुप्रसिद्ध चित्रकार, समाजसेवी एवं
मुख्य संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

Month: November 2020

image_pdfimage_print

सुखबीर दुहन की नई कविता- हालात-ए-किसान

हालात ए किसान यह जो तेरे घर में अन्न आया है। जरा सोचो किसने पसीना बहाया है। चाह मिटायी , चिन्ता पाई , चैन की नींद ना आई, तुझे दिया, …

सुखबीर दुहन की नई कविता- हालात-ए-किसान Read More »

पूनम शर्मा की कविता – ‘चमकेगी हिंदी की बिंदी’

पूरब से पश्चिम तक उत्तर से दक्षिण तक सबको पिरोती एक डोर में इसलिए सूत्रधार बनके चमकेगी हिंदी की बिंदी। अलग-अलग जाति, धर्मों के लोग यहाँ भिन्न-भिन्न प्रांतों के भिन्न …

पूनम शर्मा की कविता – ‘चमकेगी हिंदी की बिंदी’ Read More »

डा अशोक पण्ड्या के गीत

जिन्दगी एक गीत है गीत जिस पर लिखे गए अनेकों गीत हैंजी रहे हैं हम जिसेवह जिन्दगी एक गीत है ।गुनगुनाते अनेकों अधरअपने प्रणय की गीति कोआलाप करते प्रफुल्ल मनआप उपजी …

डा अशोक पण्ड्या के गीत Read More »

मनीष खारी की नई कविता -मेरे बच्चों के लिए

जिस दिन तुम खुद को अकेला पाओ, घबराओ ,डर जाओ और उसका सामना ना कर पाओ। उस दिन एक बार हिम्मत करके अपने माता -पिता के पास जाना हो सकता …

मनीष खारी की नई कविता -मेरे बच्चों के लिए Read More »

द्वितीय भाषा के रूप में हिंदी सीखने वाले सिंहली मातृभाषी विद्यार्थियों के समक्ष प्रस्तुत समस्याएँ

वरिष्ठ प्राध्यापिका डा. वजिरा गुणसेन और सहाय प्राध्यापिका सरसि रणसिंह श्री जयवर्धनपुर विश्वविद्यालय, श्री लंका wajiragunasena@sjp.ac.lk   आजकल संसार भर में मुख्य रूप से 6500 भाषाएँ बोली जाती हैं। उनमें …

द्वितीय भाषा के रूप में हिंदी सीखने वाले सिंहली मातृभाषी विद्यार्थियों के समक्ष प्रस्तुत समस्याएँ Read More »

नारी की महिमा और वेदों में नारी का स्थान

जब से सृष्टि की रचना हुई है, तब से ही शायद हम नारी को सशक्त करने की बात सोच रहे हैं।वह शायद इसलिए क्योंकि प्रकृति ने नारी को कोमल, ममतामयी,करुणामयी,सहनशील,आदि …

नारी की महिमा और वेदों में नारी का स्थान Read More »

गांधी और हिंदी

अब एकबार फिर वक्त आ गया है कि हम गांधी की भाषा दृष्टि, उनके विचार तथा उनके साहस का सहारा ले स्वतंत्र भारत की भाषाई अस्मिता को सकारात्मक ढंग से प्रस्तुत कर अतीत की ऐतिहासिक भूलों का परिमार्जन करें।

कृति के सभी जीवों और तत्वों के साथ सह अस्तित्व ही आदिवासियत – हरिराम मीणा

नई दिल्ली। आदिवासियत या आदिवासी विमर्श को अन्य विमर्शों की तरह नहीं समझना चाहिए। आदिवासियत जीवन जीने का एक बेहतरीन तरीका है, एक दर्शन और वैचारिकी है अपितु यह एक जीवन शैली है। …

कृति के सभी जीवों और तत्वों के साथ सह अस्तित्व ही आदिवासियत – हरिराम मीणा Read More »

ग़ज़ल (छेड़ाछाड़ी कर)

ग़ज़ल (छेड़ाछाड़ी कर जब कोई) बह्र:- 2222 2222 2222 222 छेड़ाछाड़ी कर जब कोई सोया शेर जगाए तो,वह कैसे खामोश रहे जब दुश्मन आँख दिखाए तो। चोट सदा उल्फ़त में …

ग़ज़ल (छेड़ाछाड़ी कर) Read More »

error: Content is protected !!