न्यू मीडिया में हिन्दी भाषा, साहित्य एवं शोध को समर्पित अव्यावसायिक अकादमिक अभिक्रम

डॉ. शैलेश शुक्ला

सुप्रसिद्ध कवि, न्यू मीडिया विशेषज्ञ एवं प्रधान संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

सृजन ऑस्ट्रेलिया | SRIJAN AUSTRALIA

6 मैपलटन वे, टारनेट, विक्टोरिया, ऑस्ट्रेलिया से प्रकाशित, विशेषज्ञों द्वारा समीक्षित, बहुविषयक अंतर्राष्ट्रीय ई-पत्रिका

A Multidisciplinary Peer Reviewed International E-Journal Published from 6 Mapleton Way, Tarneit, Victoria, Australia

डॉ. शैलेश शुक्ला

सुप्रसिद्ध कवि, न्यू मीडिया विशेषज्ञ एवं
प्रधान संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

श्रीमती पूनम चतुर्वेदी शुक्ला

सुप्रसिद्ध चित्रकार, समाजसेवी एवं
मुख्य संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

Month: October 2020

image_pdfimage_print

प्रेम

     प्रेम   माँ-बाप का प्रेम जग में सबसे अनमोल बच्चों की छोटी छोटी खुशियों में ढूँढें जो अपनी ख़ुशी उनकी खुशियों के लिए छोड़ दें जो अपनी सारी खुशियां। …

प्रेम Read More »

दशानन का उभरा दर्द, ऐसे कौन जलाता है भाई…

सुशील कुमार ‘नवीन’ शहर का एक बड़ा मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल। रोजाना की तरह मरीजों की आवाजाही जारी थी। प्रसिद्ध ह्रदयरोग विशेषज्ञ डॉ.रामावतार रामभरोसे ओपीडी में रोजाना की तरह मरीजों को देखने …

दशानन का उभरा दर्द, ऐसे कौन जलाता है भाई… Read More »

“अकादमिक विषयों के अनुवाद की उभरती प्रवृत्तियाँ” विषय पर अंतरराष्ट्रीय वेबगोष्ठी 8 नवंबर को

न्यू मीडिया सृजन संसार ग्लोबल फाउंडेशन के सहयोग से सृजन ऑस्ट्रेलिया अंतरराष्ट्रीय ई-पत्रिका एवं राजमाता जिजाऊ शिक्षा प्रसारक मंडल के कला वाणिज्य एवं विज्ञान महाविद्यालय, भोसरी, पुणे के संयुक्त तत्वावधान …

“अकादमिक विषयों के अनुवाद की उभरती प्रवृत्तियाँ” विषय पर अंतरराष्ट्रीय वेबगोष्ठी 8 नवंबर को Read More »

तुम्हें साथ लेकर चलता हूँ

तुम्हेंसाथ लेकर चलता हूँ (दिल्ली की वर्धमान कवयित्री मीनाक्षी डबास के काव्य के संदर्भ में) एक वार्ता में मीनाक्षी डबास ने कहा – “काव्य को साथ लेकर चलने से हम …

तुम्हें साथ लेकर चलता हूँ Read More »

उत्कर्ष

दृष्टि विहीन हुआ, मनुज संताप की वेदना भारी है, देव,देव न रहे, निर्विवाद है विध्वंस की भावना जारी है, किस ओर दृष्टि डालूँ ,कृतघ्नता चहूँ ओर, विनिर्माण या निर्वाण परित्याग चारो ओर, …

उत्कर्ष Read More »

नवनीत शुक्ल की कविता – ‘पुस्तक बोली’

बच्चों से इक पुस्तक बोली जितना मुझे पढ़ जाओगे उतने ही गूढ़ रहस्य मेरे बच्चों तुम समझ पाओगे। मुझमें छिपे रहस्य हजारों सारे भेद समझ जाओगे दुनियाँ के तौर-तरीकों से …

नवनीत शुक्ल की कविता – ‘पुस्तक बोली’ Read More »

error: Content is protected !!