न्यू मीडिया में हिन्दी भाषा, साहित्य एवं शोध को समर्पित अव्यावसायिक अकादमिक अभिक्रम

डॉ. शैलेश शुक्ला

सुप्रसिद्ध कवि, न्यू मीडिया विशेषज्ञ एवं प्रधान संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

सृजन ऑस्ट्रेलिया | SRIJAN AUSTRALIA

6 मैपलटन वे, टारनेट, विक्टोरिया, ऑस्ट्रेलिया से प्रकाशित, विशेषज्ञों द्वारा समीक्षित, बहुविषयक अंतर्राष्ट्रीय ई-पत्रिका

A Multidisciplinary Peer Reviewed International E-Journal Published from 6 Mapleton Way, Tarneit, Victoria, Australia

डॉ. शैलेश शुक्ला

सुप्रसिद्ध कवि, न्यू मीडिया विशेषज्ञ एवं
प्रधान संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

श्रीमती पूनम चतुर्वेदी शुक्ला

सुप्रसिद्ध चित्रकार, समाजसेवी एवं
मुख्य संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

स्वयंप्रभा : टीवी के माध्यम से घर बैठे ही होगी पढ़ाई – राहुल खटे

 
 
जिस समय भारत में टीवी अया था तब इसे केवल मनोरंजन का साधन माना गया था। भारत में रामायण और महाभारत को देखने के लिए भारत के अधिकतर लोगों ने घर में पहली बार ब्लैक एण्ड वाईट टीवी खरीदा था। बाद में उसने फिल्में, गीत और हास्य कार्यक्रमों को देखने को स्थान लिया। धीरे-धीरे इसी टीवी ने सामाजिक और आर्थिक विषयों पर कार्यक्रमों पर प्रसारण शुरू हुआ। बाद में कृषि से जुडें कुछ कार्यक्रमों ने देश के किसानों को टीवी के प्रति आकर्षित किया। क्रिकेट जैसे खेलों के प्रसारण के कारण युवा वर्ग का यह पसंदीदा विषय बन गया।
 
बाद में समाचारों और दिन भर की घटनाओं और धारावाहिकों ने घर के प्रत्येक सदस्य के लिए टीवी परिवार का एक अविभाज्य अंग बन गया। कुछ दिनों के बाद इसमें कुछ शैक्षिक कार्यक्रम भी आने लगें। धीरे-धीरे टीवी हमारे घर का ही एक इलेक्ट्रॉनिक सदस्य बन गया, जिसके सामने बैठकर खाना खाना एक रोज का काम हो गया। बच्चों को मोगली जैसे कार्यक्रम बहत ही अच्छे लगते थें। बाद में इसी टीवी ने कई क्षेत्रों के कलाकारों को अपना मंच दिया। विज्ञापनों के कारण यही टीवी कमाई का एक साधन बन गया।
 
बच्चों को हम टीवी से दूर रखने का पर्यास भी करते हैं क्योंकि यही टीवी पढाई में बाधक बनने और समय को बरबाद करने वाला माना जाने लग गया था। इसके चलते वैज्ञानिकों ने इसे ‘इडीयट-बॉक्स’ कहा था, लेकिन समय के साथ हर वस्तु में परिवर्तन आने लगता है। अब इसी स्टूपिड बॉक्स ने नॉलेज बॉक्स का स्थान ले लिया है। भारत सरकार ने देश में ई-शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए स्वयं, स्वयं प्रभा और राष्ट्रीय शैक्षिक संकलन की शुरूआत की है, जिसका नाम हैं – ‘स्वयंप्रभा’। इस डिजिटल पहल का उद्देश्य वर्ष 2020 तक उच्च शिक्षा में दाखिले के अनुपात को साढे चौबीस से बढ़ाकर तीस करना है।
 
शिक्षा को समाज के हर वर्ग के लिए सुलभ और सुगम बनाने के लिए केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने ‘स्वयं प्रभा’ नाम से 32 विशेष टीवी चैनलों की योजना बनाई है। ये चैनल दिन में करीब 4 घंटे अलग-अलग विषयों पर लाइव कार्यक्रम प्रसारित करेंगे। यह सभी चैनल किसी भी कंपनी के सेट टॉप बॉक्स पर चैनल संख्या 2001 से 2032 पर देखे जा सकते हैं। इसकी आधिकारिक साइट है: https://www.swayamprabha.gov.in/स्वयंप्रभा 
 
भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति श्री प्रणव मुखर्जी ने दो डिजिटल शिक्षा पहलों- स्वयं और स्वयं प्रभा का शुभारंभ रविवार 9 जुलाई 2017 को गुरु पूर्णिमा के अवसर पर किया गया था। इसी दिन देश भर में गुरू या शिक्षकों की पूजा की जाती है। आज टीवी ने इलेक्ट्रॉनिक गूरू का स्थान ले लिया हैं।
 
डिजिटल टेक्नोलोजी से अच्छे शिक्षक बड़ी संख्या में छात्रों को सीधे सिखाने के योग्य हैं। जो छात्र/छात्रा शारीरिक रूप से कक्षाओं में उपस्थित नहीं हो सकते हैं वह घर पर ही पढ़ाई कर सकेगें। आईसीटी (सूचना और संचार प्रौद्योगिकी) समाधान एक इंटरैक्टिव लर्निंग का अनुभव प्रदान करते हैं, जिससे देश के दूरदराज के इलाकों के छात्रों को शीर्ष शिक्षकों के व्याख्यान से फायदा हो सकता है।”
 
स्वयं और स्वयं प्रभा के अतिरिक्त, मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने दो अन्य पहलों की शुरूआत की। यह दो पहल राष्ट्रीय शैक्षणिक डिपॉजिटरी (एनएडी) और राष्ट्रीय डिजिटल लाइब्रेरी (एनडीएल) हैं।
 
स्वयं प्रभा एक विशाल ओपन ऑनलाइन पाठ्यक्रम (एमओओसीएस) की पहल है। इसका अर्थ है कि स्वयं के तहत शैक्षणिक पाठ्यक्रम ऑनलाइन उपलब्ध कराए जाएंगे और डिजिटल कक्षाओं के माध्यम से छात्रों तक पहुँचा जा सकता है। इसमें देश का कोई भी व्यक्ति पंजीकरण कराकर शिक्षा ग्रहण कर सकता है। यदि कोई छात्र स्वयं की पहल के माध्यम से प्रमाणीकरण चाहता है, तो मामूली शुल्क पर प्रमाणपत्र उपलब्ध कराया जाएगा। इस पहल के माध्यम से सभी अध्ययन सामग्री और कक्षा में हुए परीक्षण के वीडियो को नि:शुल्क उपलब्ध कराया जाएगा। मानव संसाधन विकास मंत्रालय के मंत्री के अनुसार स्वयं योजना के तहत उच्च माध्यमिक विद्यालय स्तर से स्नातक स्तर तक का पाठ्यक्रम उपलब्ध होगा।
 
स्वयं प्रभा प्रत्यक्ष रूप से डायरेक्ट-टू-होम (सीधे आपके घर) सुविधा है। इसका मतलब यह है कि कक्षा के व्याख्यान और अनुभव को 32 डिजिटल शैक्षिक टेलीविजन चैनलों के माध्यम से सीधे इच्छुक छात्रों तक उपलब्ध कराया जाएगा, जो अब एचआरडी मंत्रालय द्वारा चलाए जाएंगें। इन चैनलों को डिश एंटीना और टेलीविजन द्वारा कोई भी व्यक्ति देख सकता है। इन चैनलों पर नई शैक्षणिक सामग्री उपलब्ध कराई जाएगी, जो प्रत्येक दिन कम से कम 4 घंटे प्रसारित होगी। किसी कारणवश जो छात्र एक समय इस प्रशिक्षण को प्राप्त करने से चूक गये हैं उनके लिए इस कार्यक्रम को दोबारा प्रसारित किया जाएगा। स्वयं प्रभा योजना कक्षा दस के स्तर से लेकर आईआईटी तक के प्रारंभिक पाठ्यक्रमों को कवर करेगी। तत्कालीन राष्ट्रपति मुखर्जी ने कहा था कि, यह पहल ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों के बीच शिक्षा की गुणवत्ता के बँटवारे की खाई को भरने में मदद करेगी।
 
हाईस्कूल स्तर के छात्रों के लिए आईआईटी पाल नाम से चैनलों को लाया जा रहा है। ये चैनल 19 से लेकर 22 तक होंगे। इनका प्रबंधन आईआईटी, दिल्ली करेगा और इसके कोऑर्डिनेटर प्रो. रवि सोनी होंगे। 23 से 26 और 32 वें चैनल इग्नू के प्रबंधन में होंगे और उनका कोऑर्डिनेटर प्रो. उमा कुंजाल को बनाया गया है। वहीं 27 और 28 नंबर के चनलों को एनआईओएस देखेगी और इसके चेयरमैन प्रो सीबी शर्मा ही कोऑर्डिनेटर भी होंगे। 29 और 30 नंबर वाले चैनलों के प्रबंधन को क्यूईईई देखेगी और आईआईटी मद्रास के प्रो. अशोक झुनझनवाला इसके इसके कोऑर्डीनेटर होंगे।
 
राष्ट्रीय शैक्षणिक डिपॉजिटरी योजना अभी शुरू की गई है। यह एक डिजिटल बैंक है, जिसका उपयोग शैक्षणिक संस्थानों द्वारा शैक्षिक डिग्री, प्रमाणपत्र और देश भर के उच्चतर शिक्षा संस्थानों द्वारा प्रदान किए जाने वाले डिप्लोमा को सुरक्षित करने के लिए किया जा सकता है। इसमें इन प्रमाण पत्रों को खोने का डर भी नहीं होगा। इस डिपॉजिटरी के उपयोग से छात्रों और प्रमाण पत्र धारकों के साथ शैक्षणिक संस्थानों तथा भावी नियोक्ताओं के द्वारा किये जाने वाले प्रमाण पत्रों के सत्यापन और प्रमाणीकरण में तेजी और आसानी आयेगी। इसके साथ ही फर्जी डिग्रियों और प्रमाण पत्रों के सत्यापन की समस्या से निजात मिल जायेगी।
 
यह विचार इस साल के शुरू में वित्त मंत्री श्री अरुण जेटली के बजट भाषण में शुरू हुआ था। राष्ट्रीय शैक्षणिक डिपॉजिटरी से एचआरडी मंत्रालय (मानव विकास मंत्रालय) की फर्जी डिग्री और विश्वविद्यालयों के बारे में बढ़ती चिंताओं को हल करने की उम्मीद है, इस प्रकार कर्मचारियों, शैक्षिक संस्थानों और छात्रों को सहायता मिलेगी।
 
नेशनल डिजिटल लाइब्रेरी (एनडीएल) एक ऑनलाइन लाइब्रेरी है। यह देश में किसी को भी 70 लाख से ज्यादा किताबों तक पहुँचने में मदद करेगी। नेशनल डिजिटल लाइब्रेरी में किताबें स्कैन करके अपलोड की गई हैं। यह भारत की सबसे बड़ी ऑनलाइन लाइब्रेरी है इसमें काफी उपयोगी और मनोंरजक किताबें पढ़ी जा सकें।
 
स्वयं प्रभा पाठ्यक्रम आधारित शिक्षा चैनल के विषय इस प्रकार है :- कला, विज्ञान, व्यापार, कला प्रदर्शन, सामाजिक विज्ञान, मानविकी विषय, अभियांत्रिकी, प्रौद्योगिकी, कानून, दवा और कृषि 
 
स्वयं प्रभा योजना की विशेषताएं: (Features Swayam Prabha scheme)
1. कला, विज्ञान, वाणिज्य, कला प्रदर्शन, सामाजिक विज्ञान और मानविकी के विषयों तथा इंजीनियरिंग, प्रौद्योगिकी, कानून, चिकित्सा, कृषि आदि के रूप में पाठ्यक्रम आधारित पाठ्यक्रम दिखाए जाएंगे।
2. प्रारंभ में कार्यक्रम अंग्रेजी भाषा में दिखाए जा रहे हैं । लेकिन कुछ समय के बाद सरकार क्षेत्रीय भाषाओं में कार्यक्रमों का शुभारंभ किया जाएगे।
 
छात्रों को स्वयं प्रभा योजना से मदद
1. तस्वीरें, वीडियो और विषय विशेषज्ञों के द्वारा इंटरैक्टिव अध्ययन दिया जायेगा।
2. सामग्री देखने के बाद, छात्रों को एक टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर के माध्यम से अपने संदेह स्पष्ट कर सकते हैं।
3. मंत्रालय ने विषय विशेषज्ञों की नियुक्ति की है। इन विशेषज्ञों के द्वारा अध्ययन सामग्री का चयन किया जायेगा। विषय विशेषज्ञों की मदत से छात्र अपने सवाल का जवाब ले पाएंगे।
 
स्वयं प्रभा को जीएसएटी-15 उपग्रह का उपयोग करके 24 घंटे और सातों दिन उच्च गुणवत्ता वाले शैक्षिक कार्यक्रमों के प्रसारण के लिए समर्पित 32 डीटीएच चैनलों के समूह के रूप में माना जाता है। हर दिन, कम से कम 4 घंटो के लिए नई सामग्री होगी जो दिन में 5 बार दोहराई जाएगी, जिससे छात्रों को उनकी सुविधा का समय चुनने की अनुमति मिल जाएगी। चैनल बिसाग, गांधीनगर से अपलिंक किए गए हैं। सामग्री एनपीटीईएल, आईआईटी, यूजीसी, सीईसी, इग्नू, एनसीईआरटी और एनआईओएस द्वारा प्रदान की जाती है। INFLIBNET केंद्र वेब पोर्टल को बनाए रखता है। इन सभी चैनलों के कार्येक्रमों को अपने माेबाइल पर भी युटयूब के माध्यम से देखा जा सकता हैंं। स्वयंप्रभा युट्युुब लिंक Swayam Prabha: https://youtu.be/JwDrYw2xsQM
 
डीटीएच चैनल में पाठयक्रमों का समावेश किया जाएगा :
क) उच्च शिक्षा: स्नातकोत्तर और अंडर ग्रेजुएट स्तर पर पाठ्यक्रम, कला, विज्ञान, वाणिज्य, नाट्य कला, सामाजिक विज्ञान और मानविकी, इंजीनियरिंग, प्रौद्योगिकी, कानून (विधि), औषधी, कृषि इत्यादि जैसे विभिन्न विषयों के पाठ्यक्रम। सभी पाठ्यक्रम स्वयम के माध्यम से अपनी विस्तृत प्रस्तुति में प्रमाणीपत्र पाठ्यक्रम होंगे, ईसे एमओयूसी पाठ्यक्रमों की प्रस्तुति के लिए विकसित किया जा रहा है।
 
1) स्कूल शिक्षा (कक्षा 9-12 स्तर): भारत के बच्चों के लिए शिक्षकों के प्रशिक्षण के साथ-साथ शिक्षण और सीखने के लिए मॉड्यूल के लिए मॉड्यूल को बेहतर तरीके से समझने में मदद करते हैं और पेशेवर डिग्री कार्यक्रमों में प्रवेश के लिए स्पर्धा परीक्षाओं की तैयारी में उनकी सहायता करते हैं।
 
2) पाठ्यक्रम-आधारित पाठ्यक्रम जो भारत और विदेशों में भारतीय नागरिकों के जीवनभर के शिक्षार्थियों की आवश्यकताओं को पूरा कर सकते हैं।
 
3) 11वीं और 12वीं कक्षा के छात्रों के लिए स्पर्धा परीक्षाओं की तैयारी के लिए इससे सहायता मिलेगी।
 
इससे भारत के उन दूर-दराज के गांवों तक आज एक कोई शिक्षक नहीं पहुँच सकता वहा भी स्वयंप्रभा पहुँचकर ज्ञान के प्रकाश से भारत को आलोकित करेगी।
 
– प्रबंधक (राजभाषा), भारतीय स्टेट बैंक, नाशिक  मोबाईल: 9483081656

Last Updated on September 28, 2020 by admin

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn

More to explorer

रश्मिरथी

Print 🖨 PDF 📄 eBook 📱 जा रे जा,जिया घबराए ऐ लंबी काली यामिनी आ भी जा,देर भई रश्मिरथी मृदुल उषा कामिनी

मोटनक छन्द “भारत की सेना”

Print 🖨 PDF 📄 eBook 📱 (मोटनक छन्द) सेना अरि की हमला करती।हो व्याकुल माँ सिसकी भरती।।छाते जब बादल संकट के।आगे सब

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *