न्यू मीडिया में हिन्दी भाषा, साहित्य एवं शोध को समर्पित अव्यावसायिक अकादमिक अभिक्रम

डॉ. शैलेश शुक्ला

सुप्रसिद्ध कवि, न्यू मीडिया विशेषज्ञ एवं प्रधान संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

सृजन ऑस्ट्रेलिया | SRIJAN AUSTRALIA

6 मैपलटन वे, टारनेट, विक्टोरिया, ऑस्ट्रेलिया से प्रकाशित, विशेषज्ञों द्वारा समीक्षित, बहुविषयक अंतर्राष्ट्रीय ई-पत्रिका

A Multidisciplinary Peer Reviewed International E-Journal Published from 6 Mapleton Way, Tarneit, Victoria, Australia

डॉ. शैलेश शुक्ला

सुप्रसिद्ध कवि, न्यू मीडिया विशेषज्ञ एवं
प्रधान संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

श्रीमती पूनम चतुर्वेदी शुक्ला

सुप्रसिद्ध चित्रकार, समाजसेवी एवं
मुख्य संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

ए ज़िंदगी तू ही बता मुझको…

 

 
ए ज़िंदगी तू ही बता मुझको
और कितने इम्तिहान बाक़ी हैं,
                 **
      तेरे मयख़ाने में, मैं ही अकेला हूँ
               या और भी कई साक़ी हैं,
                             **
     कुछ इस क़द्र पिला ज़ाम तू ग़मों के
महफ़िल में सब कहें कि ये तो शराबी है,
                       **
                  हर बार ही मुझे क्यों मिलते हैं दिलासे
           बता तो सही मुझमें ऐसी भी क्या खराबी है,
                                      **
           मेरे सब्र के समंदर अब सूख चले हैं
रही ना कोई अब मेरे दिल मे प्यास बाकि है,
                           **
         अकेला नहीं हूँ मैं संग कारवाँ भी होगा
मुश्किल है डगर मग़र अभी तो जान काफी है,
                              **
        सूदूर तक मुझे यूँ तो नहीं लगती उम्मीद कोई
ख़ैर कोई बात नहीं,इस सफ़र में और भी कई साथी हैं,
                                 **
जिन्हें वहम था डूबने के वो संग छोड़ गए कब के
  अरे भोर की चाह में हमने तो कई रातें ताकी हैं,
                                   **
      मुद्दतों बाद ख़ैर कोई ऐसा तो मिला
दिये ज़ख्म पे ज़ख्म जिसने बेहिसाबी हैं,
                           **
               अच्छा सिला दिया हमें भी बड़ा गुमाँ था
     मेरी हस्ती को मिटाने में ना छोड़ी कसर बाकी है,
                               **
क्या हुआ जो तूने संग छोड़ दिया “दीप” का
हौंसलें तो अब भी मेरे यूँ ही आफ़ताबी हैं !!

प्रेषक :-  कुलदीप दहिया “मरजाणा दीप”
              हिसार (हरियाणा) भारत
              संपर्क सूत्र-905095678

 

 

Last Updated on January 21, 2021 by ddeep935

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn

More to explorer

दोहा त्रयी :….आहट 

Print 🖨 PDF 📄 eBook 📱दोहा त्रयी :….आहट    हर आहट में आस है, हर आहट विश्वास।हर आहट की ओट में, जीवित

जीने से पहले ……

Print 🖨 PDF 📄 eBook 📱जीने से पहले ……   मिट गईमेरी मोहब्बतख़्वाहिशों के पैरहन में हीजीने से पहले   जाने क्या

दोहा त्रयी : वृद्ध

Print 🖨 PDF 📄 eBook 📱दोहा त्रयी : वृद्ध चुटकी भर सम्मान को, तरस गए हैं वृद्ध । धन-दौलत को लालची, नोचें

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *