न्यू मीडिया में हिन्दी भाषा, साहित्य एवं शोध को समर्पित अव्यावसायिक अकादमिक अभिक्रम

डॉ. शैलेश शुक्ला

सुप्रसिद्ध कवि, न्यू मीडिया विशेषज्ञ एवं प्रधान संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

सृजन ऑस्ट्रेलिया | SRIJAN AUSTRALIA

6 मैपलटन वे, टारनेट, विक्टोरिया, ऑस्ट्रेलिया से प्रकाशित, विशेषज्ञों द्वारा समीक्षित, बहुविषयक अंतर्राष्ट्रीय ई-पत्रिका

A Multidisciplinary Peer Reviewed International E-Journal Published from 6 Mapleton Way, Tarneit, Victoria, Australia

डॉ. शैलेश शुक्ला

सुप्रसिद्ध कवि, न्यू मीडिया विशेषज्ञ एवं
प्रधान संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

श्रीमती पूनम चतुर्वेदी शुक्ला

सुप्रसिद्ध चित्रकार, समाजसेवी एवं
मुख्य संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

तुम लौट आओ

Spread the love
image_pdfimage_print
 
शीर्षक -” तुम लौट आओ”
          
 
               
              वो सुर्ख़ ग़ुलाब
     जो थामा था तुमने हाथ में
           संग-संग चलने का
   किया वायदा था चाँदनी रात में
             वो कसमें , वो वायदे
         मुझको सब कुछ याद हैं………..!
       
      तुम लौट आओ………..
 
            तुम्हारी सब निशानिया
    नजरें चुराना, छुईमुई सा शर्माना
            आग़ोश की सरगर्मियां
             झील के उस छोर की
      वो मुलाकातें, वो कहानियाँ 
         मुझको सब कुछ याद हैं !
                              
    तुम लौट आओ………..
                            
                       वो शाम-ए-सहर
                 वो सावन की बरसातें
                  वो उल्फ़त,वो चाहत
                   दिल में  सुगबुगाहट
   भीगे-भीगे पल,बहकी-बहकी बातें !
             याद हैं सब मुझको 
                
                   बासंती, मदमस्त पवन
              खिलखिलाते पंखुड़ियों से
            लब पुलकित,मदहोश नयन
     बिखरी झुलफें झूमें ज्यों घटा सावन
               हां सब मुझको याद है………!
 
             तुम लौट आओ……….
 
                                  
     तेरी पायलों की खनक
       भवरों की गुनगुन
    अपलक निहारना
      मुझे मन ही मन
     नहीं भुला हूँ अब तक
   उन हँसी लम्हों की छुअन !
         
               वही आसमाँ, वही जमीं
       महफ़िल है जवाँ, और हंसीं-हसी
               सुर्ख़ गुलाबों में भी नमी
        क़ायनात गवाह है,साँसें हैं थमी !
     
तुम लौट आओ 
तुम लौट आओ कि
ग़ुलाब फिर से खिल गये हैं……….!
    
    ©कुलदीप दहिया ” मरजाणा दीप “
    हिसार ( हरियाणा )
    संपर्क सूत्र -9050956788
 

Last Updated on January 21, 2021 by ddeep935

Facebook
Twitter
LinkedIn

More to explorer

रिहाई कि इमरती

Spread the love

Spread the love Print 🖨 PDF 📄 eBook 📱रिहाई कि इमरती – स्वतंत्रता किसी भी प्राणि का जन्म सिद्ध अधिकार है जिसे

हिंदी

Spread the love

Spread the love Print 🖨 PDF 📄 eBook 📱   अन्तर्राष्ट्रीय हिंदी दिवस – अंतर्मन अभिव्यक्ति है हृदय भाव कि धारा हैपल

Leave a Comment

error: Content is protected !!