न्यू मीडिया में हिन्दी भाषा, साहित्य एवं शोध को समर्पित अव्यावसायिक अकादमिक अभिक्रम

डॉ. शैलेश शुक्ला

सुप्रसिद्ध कवि, न्यू मीडिया विशेषज्ञ एवं प्रधान संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

सृजन ऑस्ट्रेलिया | SRIJAN AUSTRALIA

6 मैपलटन वे, टारनेट, विक्टोरिया, ऑस्ट्रेलिया से प्रकाशित, विशेषज्ञों द्वारा समीक्षित, बहुविषयक अंतर्राष्ट्रीय ई-पत्रिका

A Multidisciplinary Peer Reviewed International E-Journal Published from 6 Mapleton Way, Tarneit, Victoria, Australia

डॉ. शैलेश शुक्ला

सुप्रसिद्ध कवि, न्यू मीडिया विशेषज्ञ एवं
प्रधान संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

श्रीमती पूनम चतुर्वेदी शुक्ला

सुप्रसिद्ध चित्रकार, समाजसेवी एवं
मुख्य संपादक, सृजन ऑस्ट्रेलिया

काश तुम समझ पाते

Spread the love
image_pdfimage_print

             “काश तुम समझ पाते”

              —————————–

             काश तुम समझ पाते
मेरे मन में छिपी सवेंदनाओं को,
आँसुओ के सैलाब को
जो तुम्हारी याद में निकले।
           *****
                                काश तुम देख पाते
                   मेरे सुनहले ख़्वाबों का संसार,
                   जो तुम्हारे एक पल के दीदार
                               के लिए बुना था मैंने।
                                      *****
           काश तुम देख पाते
मेरे दिल में जमी यादों रूपी,
जंग की उस गहरी परत को
        जो मिलन की टोह में
              चढ़ती चली गयी।
              *****
                              काश सहलाते तुम
                          मेरी काली झुल्फ़ों को,
     अपनी नरम-नरम उँगलियों के पौरों से
       जोकि मेरे यौवन ढलने के साथ-साथ
             सफ़ेदी की चादर ओढ़ने लगी हैं।
                               *****
         काश तुम देख पाते
घूँघट में छिपे इस चाँद को,
जिस पर अब झुर्रियों का साया पड़ गया है
मेरे रुख़सारों का वो काला तिल
जिसकी एक झलक पाने को
मन लालायित रहता था कभी ।
          *****
                                  काश तुम समझ पाते
                             मेरे बिखरते जज्बातों को,
                               मेरी मज़बूरियों के पीछे
                                 मेरे बेबस हालातों को।
                                          *****
      काश महसूस कर पाते
मेरी आँखों में तुम्हारे लिये,
छिपे गहरे समंदर से शांत
पाक पवित्र प्रेम को,
दिल में उठती हूक को
जो अब नासूर बन गयी है।
        *****
                                   काश तुम समझ पाते
                                मेरे महोब्बत-ए-चमन में,
                      कुम्हलाते हुए उस बूटे की पीड़ा
                   जो चाहत रूपी उर्वरा की आस में
                                    अर्पण रूपी बूंदों की
                     आहट सुनकर चहकने लगा था।
                                   *****
काश महसूस कर पाते
रूह में बजते तार को,
धधकते कोमलांगो की तपन को
जिसे जल उठा था रोम-रोम मेरा।
             *****
                                काश कुछ लम्हे रुक पाते
                           मैं नदिया सी हो जाती कुर्बान,
                                   मेरा हर सुकूँ उड़ेल देती
                              जो सदियों से पिरो रखा था 
                                             चाह की लड़ी में
                                 कि तुम आओगे इस पार।
                                              *****
काश तुम आ जाते
समा जाती अपनी समस्त
आकाँक्षाओं के साथ
जो मेरी रूह के तहख़ाने में
बसा रखी थी तुम्हारे लिए।
         *****
                                   काश तुम आ जाते
                                   और मेरा ये ख़्वाब
                                   हो जाता मुक़म्मल
                          हो जाती मैं फ़ना तुम पर
                                         *****
मगर तुम भूल गए
बुझा डाले यादों के “दीप”
मेरी हर पीड़ा
मेरे अहसास,मेरा समर्पण
मेरी चाहतों का गुलिस्तां
उन पलों की कीमत।
      *****
                      काश तुम समझ पाते
                    काश महसूस कर पाते।
                                *****
     कुलदीप दहिया “मरजाणा दीप”
     हिसार ( हरियाणा ) भारत
     संपर्क सूत्र- 9050956788
     Mail add.- ddeep935@gmail.com

        

    
 

Last Updated on June 10, 2021 by ddeep935

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on linkedin
LinkedIn

More to explorer

तिलका छंद “युद्ध”

Spread the love

Spread the love Print 🖨 PDF 📄 eBook 📱 तिलका छंद “युद्ध” गज अश्व सजे।रण-भेरि बजे।।रथ गर्ज हिले।सब वीर खिले।। ध्वज को

मानव छंद (नारी की व्यथा)

Spread the love

Spread the love Print 🖨 PDF 📄 eBook 📱मानव छंद “नारी की व्यथा” आडंबर में नित्य घिरा।नारी का सम्मान गिरा।।सत्ता के बुलडोजर

Leave a Comment

error: Content is protected !!